logo
Home Reference Criticism & Interviews Sansaar Mein Nirmal Verma
product-img product-imgproduct-img
Sansaar Mein Nirmal Verma
Enjoying reading this book?

Sansaar Mein Nirmal Verma

by Gagan Gill
4.2
4.2 out of 5

publisher
Creators
Author Gagan Gill
Publisher Vani Prakashan
Synopsis निर्मल वर्मा के ये साक्षात्कार 2 पुस्तकों में पूर्वप्रकाशित हैं। पहली पुस्तक 1998 में किताबघर की श्रृंखला 'मेरे साक्षात्कार' के लिए उन्होंने स्वयं तैयार की थी। इसमें उन्होंने हिन्दी और अंग्रेज़ी में दिये अपने साक्षात्कार शामिल किये थे। दूसरी पुस्तक ‘संसार में निर्मल वर्मा' मैंने 2006 में रेमाधव के लिए सम्पादित की थी, निर्मल जी के जाने के बाद इसमें असंकलित साक्षात्कारों के अतिरिक्त उन पर बनी डॉक्यूमेंट्री फ़िल्मों को लिपिबद्ध किया था ताकि जो पाठक उन्हें नहीं देख पाये, वे उनका लाभ उठा सकें। इस बीच सूचना-तन्त्र बदला है, यूट्यूब की सुविधा मिली है। और मैंने निर्मलजी पर बनी फ़िल्मों को वहाँ उपलब्ध कराया है। इन वर्षों में और भी कई नयी सामग्री सामने आयी हैं। जिसे संकलित होना अभी बाकी है। आज पहली पुस्तक उपलब्ध है, दूसरी नहीं। अब एक ही जिल्द में दोनों पुस्तकें ‘संसार में निर्मल वर्मा' के संवर्द्धित संस्करण में प्रस्तुत हैं। इससे पाठकों, शोधार्थियों को सारी सामग्री एक जगह मिल सके, ऐसा मेरा प्रयास है। गगन गिल 3 अप्रैल, 2019

Enjoying reading this book?
HardBack ₹795
PaperBack ₹499
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 502
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789388434225
  • Category: Criticism & Interviews
  • Related Category: Politics & Current Affairs
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Kamred Ka Baksa by Suraj Badatiya
Jo Kinara Tha Kabhi by Laxaman Dubey
Hindu Mithak: Aadhunik Man by Shambhunath
Saat Lambi Kahaniyan by Rajee Sath
Sagar Ka Panchi by Padmesh Gupt
Main Military Ka Budha Ghoda by Nagarjun
Books from this publisher
Related Books
Sansaar Mein Nirmal Verma Gagan Gill
Deh Ki Munder Par Gagan Gill
Deh Ki Munder Par Gagan Gill
Ityadi Gagan Gill
Main Jab Tak Aai Bahar Gagan Gill
Dilli Mein Uninde Gagan Gill
Related Books
Bookshelves
Stay Connected