logo
Home Nonfiction Biographies & Memoirs Sahitya Ka Paristhitik Darshan
product-img product-img
Sahitya Ka Paristhitik Darshan
Enjoying reading this book?

Sahitya Ka Paristhitik Darshan

by K.Vanja
4.5
4.5 out of 5

publisher
Creators
Author K.Vanja
Publisher Vani Prakashan
Synopsis पिछले कुछ दशकों में दक्षिणात्य हिन्दी विद्वानों ने हिन्दी लोकवृत में एक नया स्पन्दन पैदा किया है। राग-द्वेष के गणित से दूर, सिर्फ पुस्तकों के आधार पर समकालीन हिन्दी रचनाकारों का मूल्यांकन वस्तुनिष्ठता का मानक है। डॉ. के. वनजा की यह पुस्तक उससे आगे की कड़ी है। अपने समय के एक प्रश्न (पर्यावरण-संकट) के आलोक में हिन्दी और मलयालम के कुछ प्रमुख लेखकों की कृतियों का प्रकृति-पक्ष रेखांकित करती हुई यह पारिस्थितिक दर्शन के चारों आयामों की सजग समीक्षा करती है। पूरी पुस्तक हरे प्रकाश से नहायी हुई है। पारिस्थितिक शास्त्र पर एक प्रामाणिक पुस्तक लिखकर वनजा ने वनदेवियों वाला तेज दिखाया है।

Enjoying reading this book?
HardBack ₹295
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 152
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789350008621
  • Category: Biographies & Memoirs
  • Related Category: Biographies
Share this book


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Apni Keval Dhar by Arun Kamal
Dil Se Jo Baat Nikli Ghazal Ho Gayee by Kalim Ajiz
Aadhunik Kahani : Slovakiya by Amrit Mehta
Ki Aati Hai Urdu Juban AateAate (1 to 2 Volume Set) by
Lahar Laut Aayi by Rashim Kumar
Bhartiya Neetiyon Ka Samajik Paksh by Editor Jean Dreze
Books from this publisher
Related Books
Har Pal Ka Shayar : Sahir Surinder Deol
Yaadon Ke Jharokhe Prof . Rajmani Sharma
Marquez: Jadui Yatharth Ka Jadoogar Prabhat Ranjan
Vijaydev Narayan Sahi : Rachna-Sanchayan Gopeshwar Singh
Vijaydev Narayan Sahi : Rachna-Sanchayan Gopeshwar Singh
Katihar To Kennedy Sanjay Kumar
Related Books
Bookshelves
Stay Connected