logo
Home Literature Poetry Ityadi
product-img product-imgproduct-img
Ityadi
Enjoying reading this book?

Ityadi

by Gagan Gill
4.1
4.1 out of 5

publisher
Creators
Author Gagan Gill
Publisher Vani Prakashan
Synopsis हम समझते हैं, हमने एक शाम के बाद दूसरी सुबह शुरू की है, समुन्दर में हमारी नौका वहीं पर रुकी रही होगी। नौका बहते-बहते किस अक्षांश तक जा चुकी, यह तब तक भान नहीं होता, जब तक सचमुच बहुत सारे दिन दूसरी दिशा में न निकल गये हों। अपने इन संस्मरणों को पढ़ कर ऐसा ही लग रहा है। क्या मैं इन क्षणों को पहचानती हूँ, जिनका नाक-नक्श मेरे जैसा है? 1984 के दंगों से बच निकली एक युवा लड़की। 2011 में सारनाथ में बौद्ध धर्म की दीक्षा लेती एक प्राचीन स्त्री। 2014 में कोलकाता में शंख दा से पहली ही भेट में गुरुदेव टैगोर के बारे में बात करती हुई लगभग ज्वरग्रस्त एक पाठक। ये मेरे जीवन के ठहरे हुए समय हैं, ठहरी हुई मैं हूँ। बहुत सारे समयों का, स्मृतियों का घाल-मेल । कभी मैं ये सब कोई हूँ, कभी इनमें से एक भी नहीं। यह तारों की छाँह में चलने जैसा है। बीत गये जीवन का पुण्य स्मरण। एक लेखक के आन्तरिक जीवन का एडवेंचर। हर लेखक शब्द नहीं, शब्दातीत को ही ढूँढ़ता है हर क्षण। बरसों पहले के इस अहसास में आज भी मेरी वही गहरी आस्था है। -गगन गिल

Enjoying reading this book?
PaperBack ₹295
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 168
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9789388434232
  • Category: Poetry
  • Related Category: Literature
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Aath Ekanki by
Kuchh To Kahiye… by Gulzar
Sankalon Mein Qaid Kshitij by Prabha Khetan
Shashvatoyam by Prabhakar Shrotriya
Laut Aao Vaasanti by Dr.Ramgopal Sharma 'Dinesh'
Sarvahara Raten by Jack Reacher
Books from this publisher
Related Books
Sansaar Mein Nirmal Verma Gagan Gill
Sansaar Mein Nirmal Verma Gagan Gill
Deh Ki Munder Par Gagan Gill
Deh Ki Munder Par Gagan Gill
Main Jab Tak Aai Bahar Gagan Gill
Dilli Mein Uninde Gagan Gill
Related Books
Bookshelves
Stay Connected