logo
Home Nonfiction Biographies & Memoirs Aurat Ka Koi Desh Nahin
product-img product-img
Aurat Ka Koi Desh Nahin
Enjoying reading this book?

Aurat Ka Koi Desh Nahin

by TASLIMA NASRIN
4.1
4.1 out of 5

publisher
Creators
Publisher Vani Prakashan
Translator Sushil Gupta
Synopsis तसलीमा नसरीन की यह पुस्तक जिसका अनुवाद सुशील गुप्ता ने किया है विभिन्न अखबारों में लिखे हुए कॉलमों का संग्रह है! यह किताब उन औरतों को समर्पित है,जो अपने कदम,’लोग क्या कहेंगे’ के दर से पीछे नहीं हटातीं। उन लोगों की जो इच्छा होती है,वही करती हैं। वर्तमान युग के नन्हें अंश के टुकड़े –टुकड़े चुन कर लेखिका ने इस पुस्तक में जोडे है यह पुस्तक महिलाओं के भविष्य को जगमगाता हुआ देखने की सुखद चाह का नतीजा है।

Enjoying reading this book?
HardBack ₹350
PaperBack ₹175
Print Books
About the author तसलीमा नसरीन सुख्यात लेखक और मानवतावादी विचारक हैं। अपने विचारों और लेखन के लिए उन्हें अकसर फ़तवों का सामना करना पड़ा। विवादास्पद उपन्यास ‘लज्जा’ पर उन्हें उनके देश से निष्कासित कर दिया गया जहाँ वे 1994 से नहीं गईं। भारत समेत कई देशों से उन्हें विभिन्न सम्मानित पुरस्कारों और मानद उपाधियों से विभूषित किया जा चुका है। दुनिया की लगभग तीस भाषाओं में उनकी रचनाओं का अनुवाद हो चुका है।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 236
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9788181439857
  • Category: Biographies & Memoirs
  • Related Category: Biographies
Share this book
Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Aawaz Bhi Ek Jagah Hai by Manglesh Dabral
Jivan Aur Bhautik Vigyan by Vishwmitra Sharma
Diabetes:India's Invisible Enemy by Dr.V.Lakshminarayan & Dr. Sooraj Tejaswi
Trilochan Ka Kavi Karm by Vishnuchandra Sharma
Kabir Granthawali by Dr. Shyamsunder Das
Pragtisheel Kavita Ke Sandarya-Moolya by Ajay Tiwari
Books from this publisher
Related Books
Besharam : Lajja Upanyas Ki Uttar-Katha Taslima Nasrin
Nishiddh Taslima Nasrin
Nishiddh Taslima Nasrin
Mujhe Dena Aur Prem Taslima Nasrin
Aurat Ka Koi Desh Nahin TASLIMA NASRIN
Aurat Ke Haq Mein Taslima Nasrin
Related Books
Bookshelves
Stay Connected