logo
Home Nonfiction Biographies & Memoirs Marquez: Jadui Yatharth Ka Jadoogar
product-img product-img
Marquez: Jadui Yatharth Ka Jadoogar
Enjoying reading this book?

Marquez: Jadui Yatharth Ka Jadoogar

by Prabhat Ranjan
4.1
4.1 out of 5

publisher
Creators
Publisher Vani Prakashan
Synopsis

Enjoying reading this book?
Hardback ₹395
Print Books
About the author बिहार के मधेपुरा जिला में एक मध्यमवर्गीय किसान के घर जन्मे प्रभात रंजन ने धूल-धुसरित पृष्ठभूमि से अपनी जीवन-यात्रा शुरू की। पिताजी की महत्वाकांक्षाओं ने इन्हें आंशिक साक्षरता दर व दयनीय जीवन-शैली वाली बस्ती से निकाल कर बोर्डिंग पहुँचाया। इन्होंने विज्ञान से स्नातक की डिग्री तो हासिल की, मगर साहित्य-प्रेम और लेखन-प्रवृत्ति ने इन्हें कभी साहित्य से अलग न होने दिया। 1993 में प्रकाशित इनके पहले उपन्यास ‘दोस्ती और प्यार' ने इन्हें व्यावसायिक लेखन के कई अवसर प्रदान किये। इनके कई टेलीफिल्म्स व धारावाहिक विभिन्न चैनलों से प्रसारित हो चुके हैं। प्रभात रंजन, बतौर फिल्म-पत्रकार नवभारत टाइम्स, अमर उजाला सहित कई समाचार पत्र समूह के लिये लिखते रहे, मगर पुस्तक-लेखन का मोह त्याग न सके। शायद इसीलिये, बीच-बीच में समय निकाल कर इन्होंने ‘एक नई प्रेमकहानी', ‘सितारों के पार : गुलशन कुमार', ‘कोशी पीड़ित की डायरी' पुस्तकें लिखीं, जो विभिन्न प्रकाशनों से प्रकाशित हुर्इं।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 195
  • Binding: Hardback
  • ISBN: 9789350722572
  • Category: Biographies & Memoirs
  • Related Category: Biographies
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Yeh Andar Ki Baat Hai by Hullad Muradabadi
Loktantra Ki Chunatiyan by Sachchidanand Sinha
Hamala by Harry Mulisch
Deewar Mai Rasta by Tejendra Sharma
Kamdev Ka Apna Basant Ritu Ka Sapna by Habib Tanvir
Ped Ke Hath by Vishwanath Tripathi
Books from this publisher
Related Books
Bhartiya Murtikala Ka Parichay Prabhat Ranjan
Paalatu Bohemian Prabhat Ranjan
Paalatu Bohemian Prabhat Ranjan
Kothagoi Prabhat Ranjan
Red Alert Prabhat Ranjan
Manohar Shyam Joshi Prabhat Ranjan
Related Books
Bookshelves
Stay Connected