logo
Home Nonfiction Biographies & Memoirs Dinank Ke Bina
product-img product-imgproduct-img
Dinank Ke Bina
Enjoying reading this book?

Dinank Ke Bina

by Ushakiran Khan
4.3
4.3 out of 5

publisher
Creators
Author Ushakiran Khan
Publisher Vani Prakashan
Synopsis दिनांक के बिना - उषाकिरण एक ऐसी कथाकार हैं जिनकी लेखनी में समाज, स्त्री और भूमण्डलीकरण को बार-बार अंकित किया जाता रहा है। उनकी लेखनी जीवन के लघु अंशों का कोलाज और मानचित्र दोनों है। लघुता का बोध विराट की आहट को पहचानने का संकेत है। इसी संकेत को उषाकिरण खान ने इस पुस्तक में अभूतपूर्व भाषा के माध्यम से उतारा है। दिनांक के बिना एक ऐसा दस्तावेज़ है जो समय के पार जाते जीवन के अध्यायों को स्पष्टता से पाठकों के समक्ष रखता है। इन कथाओं में यात्राएँ हैं, स्मृतियाँ और जीवन के शाश्वत सत्य हैं। निजी अनुभवों की दृष्टि से पगी और अपने आस-पास के जीवन की विडम्बनाओं को दर्शाती हुई यह कृति साधारण जीवन को असाधारण परिप्रेक्ष्य में देखने का प्रयास करती है। बिहार की लोकचेतना और संस्कृति जिसमें नागार्जुन जैसे सशक्त कवि का होना इस बात का प्रमाण है कि मैथिली भाषा युगों-युगों से साहित्य और कलाओं को समृद्ध करती आयी है। साहित्य और मैथिली भाषा की उसी समृद्ध परम्परा का निर्वाहन उषाकिरण खान करती हैं।

Enjoying reading this book?
Binding: HardBack
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 176
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789355181114
  • Category: Biographies & Memoirs
  • Related Category: Biographies
Share this book Twitter Facebook
Related Videos
Mr.


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Laut Aayangi Aankhen by Ram Kumar Krishak
Sukhmay Jeewan Ke Sutra by Epietetus
Sarveshwardayal Saxena Granthawali (9 vol Set ) by SN. VIRENDRA JAIN
Stree-Prashn by Namita Singh
Anguliyon Ka Orchestra3 by Osamu Yamamoto
Soordas by Acharya Ramchandra Shukla
Books from this publisher
Related Books
Simant Katha Ushakiran Khan
Bhamati Ushakiran Khan
Sirjanhaar Ushakiran Khan
SIRJANHAR USHAKIRAN KHAN
Usha Kiran Khan Ki Lokpriya Kahaniyan Ushakiran Khan
Hasina Manzil Ushakiran Khan
Related Books
Bookshelves
Stay Connected