About

Rashmi Bhardwaj

Writer Translator Columnist Blogger

Rashmi Bhardwaj is the editor of web magazine Meraki Patrika, through which literary programs are organized from time to time. Rashmi ji has had selected participation in literary programs like Hindi Academy, Jnanpith Walk, Youth 2016, etc. Rashmi Bhardwaj has worked for four years as a reporter and sub-editor in leading newspapers like Dainik Jagran, Aaj, etc. then taught as an assistant professor at Galgotias University. Rashmi jis articles, poems, and stories have been published on various subjects in many reputed magazines. Rashmi Ji also had an association with Muzaffarpur Doordarshan. Rashmi Bhardwajs poetry collection Ek Atirikt A has been honored by the Jnanpeeth Navlekhan Puraskar-2016. Rashmi jis compositions have been selected in "Shatdal", a compilation of 100 poets published by Bodhi Prakashan, Jaipur, and edited by senior poet Vijendra Singh. Hindi translation of the story collection of Ruskin Bond by Rajpal Prakashan and the story collection of Sahitya Akademi...

winner Hansda Sovendra Shekhar, Adivasi Nahin Nachenge has also been done by Rashmi ji.

Read more

Latest Book

Maine Apni Maa Ko Janm Diya Hai

Hindi

“….वे सभी लोग जो हमारी ज़िन्दगी में एक बड़ी जगह घेरते हैं धीरे-धीरे अपना आकार घटाने लगते हैं और एक दिन ग़ायब हो जाते हैं फिर वे हमें सपनों में मिलते हैं या हमारी कविताओं में उतर जाते हैं” महादेवी वर्मा के बाद से स्त्री कविता की अब तक चार पीढ़ियाँ और तैयार हुई । चौथी पीढ़ी की ऐसी विशिष्ट कवयित्री हैं रश्मि भारद्वाज जिनकी पीड़ा बौद्ध भिक्षुणियों के चीवर की गम्भीर लय में उनके पीछे धीरे-धीरे उड़ती जान पड़ती है । दुख से उपजे संताप वे कहीं पीछे छोड़ आयी हैं पर ‘गगन में गैब निसान उरै’ भाव से उनके पीछे ही सही, पर उनके साथ दुख लगा तो हुआ है - उन्हे एक व्यापक और गम्भीर दृष्टि देता हुआ जो किसी अतिरेक में विश्वास नहीं करती, एक दमनचक्र का जवाब दूसरे दमन-चक्र से देने में तो हर्गिज ही नहीं। तभी तो सभी संशयो के मध्य भी उनके पास शेष है ‘प्रेम का विश्वास’ , किसी ईश्वर के आगे नहीं झुकने पर भी उनके पास शेष है ‘प्रार्थना की उम्मीद’, सारे सांसारिक अनुष्ठानों के बीच भी शेष है ‘आत्मा का एकांत’।

ISBN: 9789389830293

MRP: 280

Language: Hindi

Popular blogs

Get the popular blogs, click on the link to see all blogs.

...
मैंने अपनी माँ को जन्म दिया है

"प्रतीक्षा के बाद बची हुई असीमित संभावना"...यही!...

Book Review Poem
...
अस्मिता के सवाल करती कविताएँ- एक अतिरिक्त ‘अ’

कविता के लिए मुख्य रूप से एक दृष्टिकोण...

Book Review Poem
...
स्त्री के सशक्त एकांत और दुरूह आरोहण की कविताएँ

रश्मि भारद्वाज का कविता संग्रह ‘मैंने...

रश्मि भारद्वाज राजीव कुमार सेतु प्रकाशन

My Gallery

My all gallery collection

...
...
...

Popular Videos

My all Video collection

Contact Details

Share your words with your favorite author, and let them know your perspective and thougts about their writing!

Phone

Location