logo
Home Literature Novel Wah Saal Bayalis Tha
product-img
Wah Saal Bayalis Tha
Enjoying reading this book?

Wah Saal Bayalis Tha

by Rashmi Bhardwaj
4
4 out of 5

publisher
Creators
Author Rashmi Bhardwaj
Publisher Setu Prakashan
Synopsis वह साल बयालीस था' एक तहदार उपन्यास है जिसमें रूप और रूद्र के दारुण प्रेम के अलावा भी बहुत कुछ है। उपन्यास सन् बयालीस के कालखण्ड को सजीव करता है जहाँ आज़ादी के संघर्ष के नेपथ्य के दो प्रेमियों की धड़कनें भी शामिल हैं। आज़ादी की तड़प, साम्प्रदायिक विभाजन, प्रेम के बदलते स्वरूप और युवा पीढ़ी के लिए उसके बदलते मयाने।

Enjoying reading this book?
Binding: Paperback
About the author मुजफ्फरपुर बिहार में जन्मी रश्मि भरद्वाज ने अँग्रेजी साहित्य से एम.फिल, पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है और वर्तमान में अँग्रेजी साहित्य पी.एच.डी कर रही हैं। हिंदी व् अंग्रेजी दोनों भाषाओँ पर गहरी पकड़ रखने वाली रश्मि हिंदी में मौलिक लेखन के साथ अंग्रेजी से हिंदी अनुवाद भी करती हैं। कार्य- अनुभव रश्मि भरद्वाज ने चार वर्षों तक दैनिक जागरण, आज आदि प्रमुख समाचार पत्रों में रिपोर्टर और सब - एडिटर के तौर पर कार्य किया है, तत्पश्चात गेलगोटीएस विश्वविद्यालय में सहायक प्रोफेसर रहते हुए अध्यापन किया है। अनेक प्रतिष्ठित पत्र –पत्रिकाओं में विविध विषयों पर रश्मि जी के आलेख, कविताएँ एवं कहानियाँ प्रकाशित होती रही हैं। रश्मि जी का मुजफ्फरपुर दूरदर्शन से भी जुड़ाव रहा है।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Setu Prakashan
  • Pages: 212
  • Binding: Paperback
  • ISBN: 9789392228407
  • Category: Novel
  • Related Category: Modern & Contemporary
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Baki Bache Kuchh Log by Anil Karmele
Hajariprasad Dwivedi Ek Jagtik Acharya by Shriprakash Shukla
Tark ke khunte se… by Jayant Pawar
Upasthiti Ka Arth by Gyanranjan
Patron Mein Cezanne by Rainer Maria Rilke
Tumne Kya Kiya, Yahan Apne Yauwan Ka by Paul Verlaine
Books from this publisher
Related Books
Bapu 7 (Neeyati se milan) Madhukar Upadhyay
Bapu 6 (Bharat chhoro) Madhukar Upadhyay
Bapu 5 (Daandi kooch) Madhukar Upadhyay
Bapu 4 (Neel ke nishan) Madhukar Upadhyay
Bapu 3 (Pehla pravasi) Madhukar Upadhyay
Bapu 2 (Dakshin Africa ke din) Madhukar Upadhyay
Related Books
Bookshelves
Stay Connected