logo
Home Reference Language & Essay Rashtrabhasha Hindi
product-img
Rashtrabhasha Hindi
Enjoying reading this book?

Rashtrabhasha Hindi

by Rahul Sankrityayan
4.6
4.6 out of 5

publisher
Creators
Publisher Radhakrishna Prakashan
Synopsis इस पुस्तक में राहुलजी के भाषा-सम्बन्धी कुछ महत्वपूर्ण लेखों और भाषणों को संकलित किया गया है, जिनमें उन्होंने सामान्यत: भारत की भाषा-समस्या और विशेषत: हिन्दी पर अपने विचार व्यक्त किए हैं । कहने की जरूरत नहीं कि भाषा सम्बन्धी जो सवाल पचास साल पहले हमारे सामने थे, वे कमोबेश आज भी जस के तस हैं, बल्कि कुछ ज्यादा ही उग्र हुए हैं । मसलन अंग्रेजी का मसला, जिसने व्यवहार में राष्ट्रभाषा हिन्दी और अन्य भारतीय भाषाओं को दूसरे-तीसरे दर्जे पर पहुँचा दिया है । इसके अलावा वैज्ञानिक और पारिभाषिक शब्दावली की समस्या है, जिस पर अभी भी काफी काम किए जाने की जरूरत है । राहुलजी इन निबन्धों में इन सभी बिन्दुओं पर गहराई और अधिकार के साथ विचार करते हैं । हिन्दी को राष्ट्रभाषा के पद पर स्थापित करने की पैरवी करते हुए वे अन्य भारतीय भाषाओं को भी उनका उचित और सम्मानित स्थान दिए जाने की जरूरत महसूस करते हैं । उनका सुझाव है कि हरेक बालक- बालिका को अपनी मातृभाषा में शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार होना चाहिए, और सारे देश में जहाँ भी निर्धारित अल्पमत संख्या में विद्यार्थी मिलें, वहाँ उनके लिए अपनी भाषा के स्कूल खोलने चाहिए । इसके अलावा हिन्दी की संरचना, विकास, साहित्य और इतिहास आदि अनेक पहलुओं पर राहुलजी के स्पष्ट विचार इन निबन्धों में संकलित हैं ।

Enjoying reading this book?
Binding: HardBack
About the author राहुल सांकृत्यायन जिन्हें 'महापंडित' की उपाधि दी जाती है हिन्दी के एक प्रमुख साहित्यकार थे। वे एक प्रतिष्ठित बहुभाषाविद् थे और बीसवीं सदी के पूर्वार्ध में उन्होंने यात्रा वृतांत/यात्रा साहित्य तथा विश्व-दर्शन के क्षेत्र में साहित्यिक योगदान किए।वह हिंदी यात्रासहित्य के पितामह कहे जाते हैं। बौद्ध धर्म पर उनका शोध हिन्दी साहित्य में युगान्तरकारी माना जाता है, जिसके लिए उन्होंने तिब्बत से लेकर श्रीलंका तक भ्रमण किया था। इसके अलावा उन्होंने मध्य-एशिया तथा कॉकेशस भ्रमण पर भी यात्रा वृतांत लिखे जो साहित्यिक दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण हैं। 21 वीं सदी के इस दौर में जब संचार-क्रान्ति के साधनों ने समग्र विश्व को एक ‘ग्लोबल विलेज’ में परिवर्तित कर दिया हो एवं इण्टरनेट द्वारा ज्ञान का समूचा संसार क्षण भर में एक क्लिक पर सामने उपलब्ध हो, ऐसे में यह अनुमान लगाना कि कोई व्यक्ति दुर्लभ ग्रन्थों की खोज में हजारों मील दूर पहाड़ों व नदियों के बीच भटकने के बाद, उन ग्रन्थों को खच्चरों पर लादकर अपने देश में लाए, रोमांचक लगता है। पर ऐसे ही थे भारतीय मनीषा के अग्रणी विचारक, साम्यवादी चिन्तक, सामाजिक क्रान्ति के अग्रदूत, सार्वदेशिक दृष्टि एवं घुमक्कड़ी प्रवृत्ति के महान पुरूष राहुल सांकृत्यायन। राहुल सांकृत्यायन के जीवन का मूलमंत्र ही घुमक्कड़ी यानी गतिशीलता रही है। घुमक्कड़ी उनके लिए वृत्ति नहीं वरन् धर्म था। आधुनिक हिन्दी साहित्य में राहुल सांकृत्यायन एक यात्राकार, इतिहासविद्, तत्वान्वेषी, युगपरिवर्तनकार साहित्यकार के रूप में जाने जाते है।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Radhakrishna Prakashan
  • Pages: 110
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9788171197668
  • Category: Language & Essay
  • Related Category: Arts / Humanities
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Rashtrabhasha Hindi by Rahul Sankrityayan
Prakritik Apdayen Aur Bachav by Harinarayan Shrivastava, Rajendra Prasad
Atak Gayi Nind by Rakesh Mishra
Kavi Man Jani Man by Vandana Tete
Shreeman Yogi by Ranjeet Desai
Sampurna Natak : Mrinal Pandey by Mrinal Pandey
Books from this publisher
Related Books
PALI SAHITYA KA ITIHAS RAHUL SANKRITYAYAN
Pali Sahitya Ka Itihas Rahul Sankrityayan
Paanch Bouddh Darshnik Rahul Sankrityayan
Rahul Vangmaya Meri Jeevan Yatra Part-1 (4 vols.) Rahul Sankrityayan
Rahul Vangmaya Jeevani Aur Sansmaran Part-2 (4 vols) Rahul Sankrityayan
Rahul Vangmaya Meri Jeevan Yatra Part-1 (4 vols.) Rahul Sankrityayan
Related Books
Bookshelves
Stay Connected