logo
Home Nonfiction Biographies & Memoirs Rahul Vangmaya Meri Jeevan Yatra Part-1 (4 vols.)
product-img product-img
Rahul Vangmaya Meri Jeevan Yatra Part-1 (4 vols.)
Enjoying reading this book?

Rahul Vangmaya Meri Jeevan Yatra Part-1 (4 vols.)

by Rahul Sankrityayan
4.8
4.8 out of 5

publisher
Creators
Publisher Radhakrishna Prakashan
Synopsis हिन्दी में आत्मकथा-साहित्य के क्षेत्र में राहुल जी की 'मेरी जीवन-यात्रा’ एक अविस्मरणीय कृति है। राहुल जी ने अपनी जीवन-यात्रा में, जन्म से लेकर तिरसठवाँ वर्ष पूरा करने तक का वर्णन किया है। उन्होंने आत्मचरित के लिए 'जीवन-यात्रा’ शब्द का प्रयोग किया है। इस विषय में उनका कथन है, ''मैंने अपनी जीवनी न लिखकर 'जीवन-यात्रा’ लिखी है, यह क्यों? अपनी लेखनी द्वारा मैंने उस जगत की भिन्न-भिन्न गतियों और विचित्रताओं को अंकित करने की कोशिश की है, जिसका अनुमान हमारी तीसरी पीढ़ी मुश्किल से करेगी।’’ 'मेरी जीवन-यात्रा’ के प्रथम भाग के कालखण्ड के विस्तृत वर्ण्य-विषय को लेखक ने चार उपखण्डों में विभाजित किया है, और पुस्तक के अन्त में महत्त्वपूर्ण परिशिष्ट भी दिया है। जीवनी के विभाजित खण्डों के अनुसार—प्रथम उपखण्ड : बाल्य (1893-1909), द्वितीय उपखण्ड : तारुण्य (1910-1914), तृतीय उपखण्ड : नव प्रकाश (1915-1921), चतुर्थ उपखण्ड : राजनीति-प्रवेश (1921-1927) है। परिशिष्ट में 1922 की डायरी से कुछ पद्य-गद्य की पंक्तियाँ तथा सांकृत्यायन-वंशवृक्ष का वर्णन है, जिसमें (क) वैदिक काल, (ख) बौद्ध काल, (ग) मध्य काल और (घ) आधुनिक काल के अनुसार ऐतिहासिक विवरण प्रस्तुत किया गया है। 'जीवन-यात्रा’ के इस प्रथम भाग के अनुसार राहुल जी मुख्यत: भारत में ही रहे। बस, विदेश के नाम पर उन्होंने नेपाल की यात्रा की और वहाँ के कई प्रभावशाली लोगों से मिले। कलकत्ता की दूसरी उड़ान में उन्होंने प्रसाद जी के प्रसिद्ध खानदान 'सुंघनी साहु’ की दुकान में काम किया था। काम क्या था, किस तरह उसे करते थे, इसका विशद वर्णन उन्होंने किया है। इसके माध्यम से हमें जयशंकर प्रसाद के खानदान का इतिहास भी प्राप्त हो जाता है। इसी भाग में राहुल जी पर वैराग्य का भूत सवार हो जाता है। आर्यसमाज ने राहुल जी के जीवन की दिशा ही बदल दी थी।

Enjoying reading this book?
Binding: HardBack
About the author राहुल सांकृत्यायन जिन्हें 'महापंडित' की उपाधि दी जाती है हिन्दी के एक प्रमुख साहित्यकार थे। वे एक प्रतिष्ठित बहुभाषाविद् थे और बीसवीं सदी के पूर्वार्ध में उन्होंने यात्रा वृतांत/यात्रा साहित्य तथा विश्व-दर्शन के क्षेत्र में साहित्यिक योगदान किए।वह हिंदी यात्रासहित्य के पितामह कहे जाते हैं। बौद्ध धर्म पर उनका शोध हिन्दी साहित्य में युगान्तरकारी माना जाता है, जिसके लिए उन्होंने तिब्बत से लेकर श्रीलंका तक भ्रमण किया था। इसके अलावा उन्होंने मध्य-एशिया तथा कॉकेशस भ्रमण पर भी यात्रा वृतांत लिखे जो साहित्यिक दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण हैं। 21 वीं सदी के इस दौर में जब संचार-क्रान्ति के साधनों ने समग्र विश्व को एक ‘ग्लोबल विलेज’ में परिवर्तित कर दिया हो एवं इण्टरनेट द्वारा ज्ञान का समूचा संसार क्षण भर में एक क्लिक पर सामने उपलब्ध हो, ऐसे में यह अनुमान लगाना कि कोई व्यक्ति दुर्लभ ग्रन्थों की खोज में हजारों मील दूर पहाड़ों व नदियों के बीच भटकने के बाद, उन ग्रन्थों को खच्चरों पर लादकर अपने देश में लाए, रोमांचक लगता है। पर ऐसे ही थे भारतीय मनीषा के अग्रणी विचारक, साम्यवादी चिन्तक, सामाजिक क्रान्ति के अग्रदूत, सार्वदेशिक दृष्टि एवं घुमक्कड़ी प्रवृत्ति के महान पुरूष राहुल सांकृत्यायन। राहुल सांकृत्यायन के जीवन का मूलमंत्र ही घुमक्कड़ी यानी गतिशीलता रही है। घुमक्कड़ी उनके लिए वृत्ति नहीं वरन् धर्म था। आधुनिक हिन्दी साहित्य में राहुल सांकृत्यायन एक यात्राकार, इतिहासविद्, तत्वान्वेषी, युगपरिवर्तनकार साहित्यकार के रूप में जाने जाते है।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Radhakrishna Prakashan
  • Pages:
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9788171191857
  • Category: Biographies & Memoirs
  • Related Category: Biographies
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Sahela Re by Mrinal Pandey
Path Ka Daava by Sharatchandra
Sach Kahati Kahaniyan by Kusum Khemani
Rajnigandha : Patkatha by Mannu Bhandari & Basu Chatterjee
Kuchh Moti Kuchh Seep by Shrikrishna
Paka Hai Yah Kathal by Nagarjun
Books from this publisher
Related Books
PALI SAHITYA KA ITIHAS RAHUL SANKRITYAYAN
Pali Sahitya Ka Itihas Rahul Sankrityayan
Paanch Bouddh Darshnik Rahul Sankrityayan
Rahul Vangmaya Meri Jeevan Yatra Part-1 (4 vols.) Rahul Sankrityayan
Rahul Vangmaya Jeevani Aur Sansmaran Part-2 (4 vols) Rahul Sankrityayan
Rashtrabhasha Hindi Rahul Sankrityayan
Related Books
Bookshelves
Stay Connected