logo
Home Nonfiction Reference Work Pali Sahitya Ka Itihas
product-img
Pali Sahitya Ka Itihas
Enjoying reading this book?

Pali Sahitya Ka Itihas

by Rahul Sankrityayan
4.5
4.5 out of 5

publisher
Creators
Publisher Vani Prakashan
Synopsis

Enjoying reading this book?
HardBack ₹295
Print Books
About the author राहुल सांकृत्यायन जिन्हें 'महापंडित' की उपाधि दी जाती है हिन्दी के एक प्रमुख साहित्यकार थे। वे एक प्रतिष्ठित बहुभाषाविद् थे और बीसवीं सदी के पूर्वार्ध में उन्होंने यात्रा वृतांत/यात्रा साहित्य तथा विश्व-दर्शन के क्षेत्र में साहित्यिक योगदान किए।वह हिंदी यात्रासहित्य के पितामह कहे जाते हैं। बौद्ध धर्म पर उनका शोध हिन्दी साहित्य में युगान्तरकारी माना जाता है, जिसके लिए उन्होंने तिब्बत से लेकर श्रीलंका तक भ्रमण किया था। इसके अलावा उन्होंने मध्य-एशिया तथा कॉकेशस भ्रमण पर भी यात्रा वृतांत लिखे जो साहित्यिक दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण हैं। 21 वीं सदी के इस दौर में जब संचार-क्रान्ति के साधनों ने समग्र विश्व को एक ‘ग्लोबल विलेज’ में परिवर्तित कर दिया हो एवं इण्टरनेट द्वारा ज्ञान का समूचा संसार क्षण भर में एक क्लिक पर सामने उपलब्ध हो, ऐसे में यह अनुमान लगाना कि कोई व्यक्ति दुर्लभ ग्रन्थों की खोज में हजारों मील दूर पहाड़ों व नदियों के बीच भटकने के बाद, उन ग्रन्थों को खच्चरों पर लादकर अपने देश में लाए, रोमांचक लगता है। पर ऐसे ही थे भारतीय मनीषा के अग्रणी विचारक, साम्यवादी चिन्तक, सामाजिक क्रान्ति के अग्रदूत, सार्वदेशिक दृष्टि एवं घुमक्कड़ी प्रवृत्ति के महान पुरूष राहुल सांकृत्यायन। राहुल सांकृत्यायन के जीवन का मूलमंत्र ही घुमक्कड़ी यानी गतिशीलता रही है। घुमक्कड़ी उनके लिए वृत्ति नहीं वरन् धर्म था। आधुनिक हिन्दी साहित्य में राहुल सांकृत्यायन एक यात्राकार, इतिहासविद्, तत्वान्वेषी, युगपरिवर्तनकार साहित्यकार के रूप में जाने जाते है।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 310
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9788170552772
  • Category: Reference Work
  • Related Category: Reference & Research
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Jyotish Ka Pahla Path by Dr.Gyan Singh Maan
1857 Ki Heratange Dastanen by Shamsul Islam
Manzarnama - 1 by Gulzar
Barmi Ladki by Saadat hasan manto
Turk Asia Europe Africa by Principal M . Usman
Cheen Ka Itihas by Prof . C.E Jini
Books from this publisher
Related Books
PALI SAHITYA KA ITIHAS RAHUL SANKRITYAYAN
Paanch Bouddh Darshnik Rahul Sankrityayan
Rahul Vangmaya Meri Jeevan Yatra Part-1 (4 vols.) Rahul Sankrityayan
Rahul Vangmaya Jeevani Aur Sansmaran Part-2 (4 vols) Rahul Sankrityayan
Rahul Vangmaya Meri Jeevan Yatra Part-1 (4 vols.) Rahul Sankrityayan
Rashtrabhasha Hindi Rahul Sankrityayan
Related Books
Bookshelves
Stay Connected