logo
Home Literature Short Stories Gausevak
product-img
Gausevak
Enjoying reading this book?

Gausevak

by Anil Yadav
4.7
4.7 out of 5

publisher
Creators
Author Anil Yadav
Publisher Rajkamal Prakashan
Synopsis नक्सल प्रभावित एक आदिवासी इलाक़े में विकास का मिथ, नक्सलियों और पुलिस-प्रशासन के बीच पिसते आदिवासी, लगातार मौत को अपने सामने देखते नाउम्मीद जीवन का अवसरवाद जो गौरक्षा की राजनीति करनेवाली एक पार्टी के लिए बहुत उर्वर ज़मीन तैयार करता है, और इन सबके बीच गाय की तस्करी करनेवाले एक गौसेवक आदिवासी नेता के टिकट पाने का जुगाड़... आदिवासी जीवन के संकटों का बयान करनेवाली मुद्रा से अनछुई यह कहानी संकटों के गतिविज्ञान में आपको गहरे ले जाती है, और मज़ा यह कि जाते हुए आपको लेखक के शोध/तजुर्बे से आतंकित/प्रभावित होने की याद भी नहीं रहती! आपको याद बस इतना रहता है कि आप धामा चेरो नामक एक गौसेवक आदिवासी नेता की कहानी सुन रहे हैं जिसने कई और गोरखधंधों के साथ-साथ गौतस्करी से अच्छी कमाई की है और जो पिछली बार विफल रहने के बाद इस बार टिकट पाने के लिए कृतसंकल्प है। अनिल यादव की बारीक निगाह और कथाभाषा उनकी ख़ास पहचान है। वे चीज़ों को जिस तरह देखते हैं, उसमें निगाहें हर अवगुंठन को पार कर जाती हैं और 'दृश्य' के भीतर का 'अदृश्य' दिखने लगता है। इसी देखने से इस कहानीकार की ख़ास अपनी कथाभाषा जन्मी है। हिन्दी के युवा/लगभग-युवा कथाकारों में सम्भवतः अनिल यादव ही हैं जिन्हें, अब, कथाभाषा से पहचाना जा सकता है। यह उन्होंने क्रमशः अर्जित की है और 'गौसेवक' में यह अपनी पकी हुई पहचान के साथ है। —संजीव कुमार

Enjoying reading this book?
HardBack ₹250
PaperBack ₹99
Print Books
Digital Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 77
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789389598193
  • Category: Short Stories
  • Related Category: Novella
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Ek Mantri Swarglok Mein by Shankar Puntambeker
Kahin Kuchh Nahin by Shashibhushan Dwivedi
Granthi by Sumitranandan Pant
Ek Hi Zindagi by Anita Verma
Buddh Nirvan Ki Raah Par by Shiv K. Kumar
Zameen Pak Rahi Hai by Kedarnath singh
Books from this publisher
Related Books
Sampoorna Kahaniyan : Akhilesh Akhilesh
Sampoorna Kahaniyan : Akhilesh Akhilesh
Dilli Mein Neend Uma Shankar Choudhary
Pratinidhi Kahaniyan : Swayam Prakash Swayam Prakash
Pratinidhi Kahaniyan : Chandrakanta Chandrakanta
Do Bahanen Charan Singh Pathik
Related Books
Bookshelves
Stay Connected