logo
Home Literature Short Stories Do Bahanen
product-img
Do Bahanen
Enjoying reading this book?

Do Bahanen

by Charan Singh Pathik
4.1
4.1 out of 5

publisher
Creators
Author Charan Singh Pathik
Publisher Rajkamal Prakashan
Synopsis चरण सिंह पथिक हिन्दी के उन चुनिन्दा कथाकारों में हैं जिनके यहाँ लेखन की प्रेरणा कोई शैल्पिक कौतुक या नवाचार नहीं, बल्कि कथ्य होता है। वे पूर्णकालीन रूप में गाँव में रहते हैं। इसीलिए वे ग्रामीण जीवन की उन परतों को भी देख लेते हैं जो कोई नागर दृष्टि कितने भी साहित्यिक उद्यम के बावजूद नहीं देख पाती। क्रूरता, वैमनस्य, सहज मानवीयता के प्रति एक मूलबद्ध द्वेष, पर-तथा-आत्म-घाती ईर्ष्या, स्पर्धा, लालसा और जिन-जिन नैतिक मूल्यों को धर्म और ईश्वर स्थापित करते प्रतीत होते हैं, उन सबसे एक परफ़ेक्ट और चालाक ‘इस्केप’ हमारे मौजूदा गाँवों का अपना आविष्कार है। नहीं तो यह कैसे होता कि 'संयुक्त परिवार के स्वर्ग' में किसी एक भाई की शादी साज़िशन और बिना किसी अपराध-बोध के और लगभग एक स्वीकृत सामाजिक ‘नॉर्म’ (बल्कि पुरुषार्थ) के तौर पर न होने दी जाए ताकि उसके हिस्से की ज़मीन-जायदाद बाकी भाइयों को हासिल हो जाए। यह सिर्फ़ एक उदाहरण है, जो पथिक जी की बस एक कहानी का विषय है, लेकिन हमारे ग्रामीण जीवन की नैतिक हक़ीक़त, संयुक्त परिवार की अति-मंडित इकाई और गाँव के हर कोने में विराजे ईश्वर और हर क़दम पर निभाए जानेवाले धर्म के ऐन सामने सम्भव कर दिए गए मनुष्य-विरोध की कितनी सारी परतें इससे खुल जाती हैं! ऐसी दृ‌ष्टि तब मुमकिन होती है जब आप पॉलिटिकल करेक्ट बने रहने की स्थायी आत्मवंचना से मुक्त होते हैं। चरण सिंह पथिक के कथाकार की बहुआयामी और बहुस्तरीय मौलिकता उन्हें इस वंचना से परे रखती है, इसीलिए वे वही लिखते हैं जो देखते हैं और वह उसे देखते हैं जो सिर्फ़ वही देख सकता है जो हर क्षण भीतर से नया और ताज़ा हो जाता हो।

Enjoying reading this book?
HardBack ₹395
PaperBack ₹150
Print Books
Digital Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 143
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789389577778
  • Category: Short Stories
  • Related Category: Novella
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Aalok Parv by Hazariprasad Dwivedi
Gujrat Pakistan Se Gujrat Hindustan by Krishna Sobti
Prarambhik Rachanayen by Namvar Singh
Sarabjit Singh : A Case of Mistaken Identity by Awaish Sheikh
Nithalle Ki Diary by Harishankar Parsai
Khambhon Per Tiki Khushabu by Narendra Nagdev
Books from this publisher
Related Books
Sampoorna Kahaniyan : Akhilesh Akhilesh
Sampoorna Kahaniyan : Akhilesh Akhilesh
Dilli Mein Neend Uma Shankar Choudhary
Pratinidhi Kahaniyan : Swayam Prakash Swayam Prakash
Pratinidhi Kahaniyan : Chandrakanta Chandrakanta
Gausevak Anil Yadav
Related Books
Bookshelves
Stay Connected