logo
Home Literature Short Stories Dilli Mein Neend
product-img
Dilli Mein Neend
Enjoying reading this book?

Dilli Mein Neend

by Uma Shankar Choudhary
4.4
4.4 out of 5

publisher
Creators
Author Uma Shankar Choudhary
Publisher Rajkamal Prakashan
Synopsis उमा शंकर चौधरी लम्बी कहानियों के सिद्धहस्त लेखक हैं। उनकी कहानियाँ आपको मदमस्त नहीं करतीं, बल्कि परेशान करती हैं। आप उनसे भागना भी चाहते हैं लेकिन एक तत्त्व है लेखक में कि वह जीवन की सही सच्चाइयाँ पकड़ लेता है। लेखक के पास छोटी-छोटी चीज़ों के लम्बे-लम्बे वृत्तान्त हैं। इतने कि कई बार आपको ऊब होने लगती है। लेकिन यही लेखक की सूक्ष्म निरीक्षण-क्षमता है। ‘दिल्ली में नींद’ संग्रह की तमाम कहानियाँ इस बात का प्रमाण हैं। चाहे वह राजेश्वर सिंह की कहानी हो या फुच्चु मास्साब की या सुनानी की; एक गहरी पीड़ा इन सब में है। उनकी कहानियाँ सपाट नहीं हैं। वे यथार्थ के भीतर जाती हैं और कई बार उसका अतिक्रमण करती हैं। इसके लिए कई बार वे जादुई यथार्थवाद का भी इस्तेमाल करते हैं। उनके सरोकार स्पष्ट हैं और उसमें कोई फाँक नहीं है। इस संग्रह की कहानियाँ सामन्ती समाज के अन्तर्विरोधों की कहानियाँ हैं तो इनमें उदारीकरण के बाद के शहरी समाज की निम्नमध्यवर्गीय पीड़ा भी है। आम आदमी के दु:ख-दर्द उमा शंकर की कहानियों की ख़ास विशेषता है और यही उन्हें अपनी पीढ़ी में सबसे अलग करती है। —शशिभूषण द्विवेदी

Enjoying reading this book?
HardBack ₹395
PaperBack ₹160
Print Books
Digital Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 160
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789389577983
  • Category: Short Stories
  • Related Category: Novella
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Daar Se Bichhudi by Krishna Sobti
Koi Naam Na Do by Paritosh Chakraborti
Teesari Hatheli by Rajee Seth
Sidhiyan Maan Aur Uska Devta by Bhagwandas Morwal
Rasayan Ki Baat by Deviprasad Chattopadhyay
Kavita Se Lambi Kavita by Vinod Kumar Shukla
Books from this publisher
Related Books
Sampoorna Kahaniyan : Akhilesh Akhilesh
Sampoorna Kahaniyan : Akhilesh Akhilesh
Pratinidhi Kahaniyan : Swayam Prakash Swayam Prakash
Pratinidhi Kahaniyan : Chandrakanta Chandrakanta
Do Bahanen Charan Singh Pathik
Gausevak Anil Yadav
Related Books
Bookshelves
Stay Connected