logo
Home Nonfiction Nonfiction Ab Ke Pahle Ab Ke Baad
product-img product-imgproduct-img
Ab Ke Pahle Ab Ke Baad
Enjoying reading this book?

Ab Ke Pahle Ab Ke Baad

by Taran Prakash Sinha
4.4
4.4 out of 5

publisher
Creators
Author Taran Prakash Sinha
Publisher Vani Prakashan
Synopsis प्रस्तुत पुस्तक में छत्तीसगढ़ की संस्कृति, ग्रामीण जीवन, स्थानीय कला, आजीविका, प्रशासन, प्रबन्धन, अर्थ-व्यवस्था, लोक परम्पराएँ, मान्यताएँ, पौराणिक किंवदन्तियाँ, स्वास्थ्य और कृषि से लेकर प्रायः सभी प्रकार के आलेख समाहित हो गये हैं। ऐसे संकलन के पीछे एक तर्क यह भी है कि चिन्तन-मनन को 'विभाजन' में देखने की बजाय हमेशा 'समग्रता' में देखना ज़्यादा व्यावहारिक होता है। बेशक हमारा मस्तिष्क, विषयों के विभाजन और तुलना की ओर अधिक आकर्षित होता है, लेकिन मेरा अपना अनुभव यही है कि बहुत अधिक विभाजन करने और स्थितियों को अलग-अलग देखने से कई बार हम बड़े लक्ष्य से भटक भी जाते हैं। निश्चित ही, मेरी इस धारणा के विपरीत तर्क रखने वाले भी अपनी जगह सही हो सकते हैं। फिर भी यह कहा जा सकता है कि इस किताब में शामिल हर आलेख में विश्लेषण की एक नयी दृष्टि अन्तर्निहित है। इसी पुस्तक से

Enjoying reading this book?
Binding: HardBack
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 120
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789355182722
  • Category: Nonfiction
  • Related Category: Nonfiction
Share this book Twitter Facebook
Related Videos
Mr.


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Ras Vimarsh by Dr.Rammurti Tripathi
Nirala - Saroj- Smiriti Ki Kavyasheily Ek Vaigyanik Adhyayan by Dr. Manju A.
Raat Pali by Vijay Kumar
Communalism Expained ! - a graphic account by Ram Puniyani
Shareerik Lakshan Thata Bhagya by Dr.Gyan Singh Maan
Nau Ratn by Firaq Gorakhpuri
Books from this publisher
Related Books
Courts & Hunger Sanjay Parikh
Ab Ke Pahle Ab Ke Baad Taran Prakash Sinha
Mrityu-Katha Ashutosh Bhardwaj
Ek Kavi Ko Mangani Hoti Hai Kshma, Kabhi Na Kabhi (Kavi Ka Gadya) Nishikant & Kanupriya Devtale
Lhasa Ka Lahoo Conceptualization
Satra: Shabdon Ka Masiha Prabha Khetan
Related Books
Bookshelves
Stay Connected