logo
Home Nonfiction Nonfiction Ek Kavi Ko Mangani Hoti Hai Kshma, Kabhi Na Kabhi (Kavi Ka Gadya)
product-img product-imgproduct-img
Ek Kavi Ko Mangani Hoti Hai Kshma, Kabhi Na Kabhi (Kavi Ka Gadya)
Enjoying reading this book?

Ek Kavi Ko Mangani Hoti Hai Kshma, Kabhi Na Kabhi (Kavi Ka Gadya)

by Nishikant & Kanupriya Devtale
4.4
4.4 out of 5

publisher
Creators
Author Nishikant & Kanupriya Devtale
Publisher Vani Prakashan
Synopsis चन्द्रकान्त कवि-मनुष्य हैं। उनकी सोच कविता की सोच है, उनकी दृष्टि कविदृष्टि है। उनकी ऊर्जा का केन्द्र कविता है। विषय चाहे जो भी हो, चन्द्रकान्त उसे अपने अन्तस की रोशनी में ही देखते-परखते हैं। कविता की रोशनी से ही कोई भी विषय, विचार, विधान आलोकित होता है। केन्द्र में कविता है। वह विचारधारा की तरह चश्मा नहीं है। कविता की दृष्टि से देखने पर दृष्टिकोण ही बदल जाता है। जीवन का साक्षात्कार कविता की भाषा से होता है वैसा आम भाषा से नहीं होता। कवि का गद्य भी इस सही भाषा की तलाश है। वह नया नज़रिया देता है ज़िन्दगी और दुनिया को देखने का। चन्द्रकान्त का गद्य यही करता है इसलिए भी उसे कवि का गद्य कहना वाज़िब लगता है। कवि का गद्य वह होता है जिसमें कवि के व्यक्तित्व की सहज प्रतीति होती है, चन्द्रकान्त के गद्य में ईमानदारी, पारदर्शिता, सह-अनुभव और दोस्ती के अन्दाज़ की गन्ध है। साफ़गोई, संवेदनशीलता, सहजता, विनोदप्रियता, अपनापा आदि गुणों ने उसमें चार चाँद लगाये हैं। वह अपने जीवन में और जीवन के ख़ास क्षणों में पाठक या श्रोता को शामिल कर विश्वास जगाते हैं। यह अन्तरंगता इस गद्य को कवि का गद्य बना देती है, कवि के साथ वह चिन्तक, अध्यापक, श्रोता, वक्ता, पति, पिता, पुत्र, भाई, मित्र, चित्रकार, रसिक, शिष्य, गुरु, नागरिक आदि कई रूपों में हमारे सामने आते हैं और दिमाग़ पर छा जाते हैं। बिना गम्भीरता और सभ्यता को खोये। -भूमिका से

Enjoying reading this book?
Binding: Hardback
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 272
  • Binding: Hardback
  • ISBN: 9789390678600
  • Category: Nonfiction
  • Related Category: Nonfiction
Share this book Twitter Facebook
Related Videos
Mr.


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Dalit Sahitya Ka Saundarya Shastra by Dr. Sharan Kumar Limbale
Raghuvir Sahay Aur Pratirodh Ki Sanskriti by Abhay Kumar Thakur
Budha Vyragya by Ramvilas Sharma
Tohfe Kanch Ghar Ke by Umashankar Tiwari
Kaag Bhagora by Harishankar Parsai
Nahin, Kahin Kuchh Bhi Nahin… by TASLIMA NASRIN
Books from this publisher
Related Books
Courts & Hunger Sanjay Parikh
Ab Ke Pahle Ab Ke Baad Taran Prakash Sinha
Ab Ke Pahle Ab Ke Baad Taran Prakash Sinha
Mrityu-Katha Ashutosh Bhardwaj
Lhasa Ka Lahoo Conceptualization
Satra: Shabdon Ka Masiha Prabha Khetan
Related Books
Bookshelves
Stay Connected