logo
Home Reference Criticism & Interviews Stree Kavita : Paksh Aur Pariprekshya - 1
product-img
Stree Kavita : Paksh Aur Pariprekshya - 1
Enjoying reading this book?

Stree Kavita : Paksh Aur Pariprekshya - 1

by Rekha Sethi
4.6
4.6 out of 5

publisher
Creators
Author Rekha Sethi
Publisher Rajkamal Prakashan
Synopsis एक मानवीय इकाई के रूप में स्त्री और पुरुष, दोनों अपने समय व यथार्थ के साझे भोक्ता हैं लेकिन परिस्थितियाँ समान होने पर भी स्त्री-दृष्टि दमन के जिन अनुभवों व मन:स्थितियों से बन रही है, मुक्ति की आकांक्षा जिस तरह करवटें बदल रही है, उसमें यह स्वाभाविक है कि साहित्यिक संरचना तथा आलोचना, दोनों की प्रणालियाँ बदलें। स्त्री-लेखन स्त्री की चिन्तनशील मनीषा के विकास का ही ग्राफ है जिससे सामाजिक इतिहास का मानचित्र गढ़ा जाता है और जेंडर तथा साहित्य पर हमारा दिशा-बोध निर्धारित होता है। भारतीय समाज में जाति एवं वर्ग की संरचना जेंडर की अवधारणा और स्त्री-अस्मिता को कई स्तरों पर प्रभावित करती है। स्त्री-कविता पर केन्द्रित प्रस्तुत अध्ययन जो कि तीन खंडों में संयोजित है, स्त्री-रचनाशीलता को समझने का उपक्रम है, उसका निष्कर्ष नहीं। पहले खंड, 'स्त्री-कविता : पक्ष और परिप्रेक्ष्य' में स्त्री-कविता की प्रस्तावना के साथ-साथ गगन गिल, कात्यायनी, अनामिका, सविता सिंह, नीलेश रघुवंशी, निर्मला पुतुल और सुशीला टाकभौरे पर विस्तृत लेख हैं। एक अर्थ में ये सभी वर्तमान साहित्यिक परिदृश्य में विविध स्त्री-स्वरों का प्रतिनिधित्व कर रही हैं। उनकी कविता में स्त्री-पक्ष के साथ-साथ अन्य सभी पक्षों को आलोचना के केन्द्र में रखा गया है, जिससे स्त्री-कविता का बहुआयामी रूप उभरता है। दूसरा खंड, 'स्त्री-कविता : पहचान और द्वन्द्व' स्त्री-कविता की अवधारणा को लेकर स्त्री-पुरुष रचनाकारों से बातचीत पर आधारित है। इन रचनाकारों की बातों से उनकी कविताओं का मिलान करने पर उनके रचना-जगत को समझने में तो सहायता मिलती ही है, स्त्री-कविता सम्बन्धी उनकी सोच भी स्पष्ट होती है। स्त्री-कविता को लेकर स्त्री-दृष्टि और पुरुष-दृष्टि में जो साम्य और अन्तर है उसे भी इन साक्षात्कारों में पढ़ा जा सकता है। तीसरा खंड, 'स्त्री-कविता : संचयन' के रूप में प्रस्तावित है...। इन सारे प्रयत्नों की सार्थकता इसी बात में है कि स्त्री-कविता के माध्यम से साहित्य और जेंडर के सम्बन्ध को समझते हुए मूल्यांकन की उदार कसौटियों का निर्माण हो सके जिसमें सबका स्वर शामिल हो।

Enjoying reading this book?
Binding: PaperBack
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 238
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9789389577228
  • Category: Criticism & Interviews
  • Related Category: Politics & Current Affairs
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Besharam : Lajja Upanyas Ki Uttar-Katha by Taslima Nasrin
Pratinidhi Kavitayen : Harivanshrai Bachhan by Harivansh Rai Bachchan
Sabrang Chutkule by Amod Maheshwari
Svaraj by Ramchandra Gandhi
Aameen by Alok Srivastava
Stree Chintan Ki Chunautiya by Rekha Kastwar
Books from this publisher
Related Books
Sang Satsang Namvar Singh
Uma Nehru Aur Striyon Ke Adhikar Pragya Pathak
Stree Kavita : Paksh Aur Pariprekshya - 1 Rekha Sethi
Stree Kavita : Pahachan Aur Dwandwa - 2 Rekha Sethi
Chandrakanta (Santati) Ka Tilism Wagish Shukla
Stree Kavita : Pahachan Aur Dwandwa - 2 Rekha Sethi
Related Books
Bookshelves
Stay Connected