logo
Home Reference Criticism & Interviews Uma Nehru Aur Striyon Ke Adhikar
product-img
Uma Nehru Aur Striyon Ke Adhikar
Enjoying reading this book?

Uma Nehru Aur Striyon Ke Adhikar

by Pragya Pathak
4.6
4.6 out of 5

publisher
Creators
Author Pragya Pathak
Publisher Rajkamal Prakashan
Editor Pragya Pathak
Synopsis भारत में स्त्री-आन्दोलन के लिहाज से बीसवीं सदी के शुरुआती तीन दशक बहुत महत्त्वपूर्ण हैं। स्वतंत्रता आन्दोलन के साथ-साथ सामाजिक स्तर पर जो आत्ममंथन की प्रक्रिया चल रही थी, उसी के एक बड़े हिस्से के रूप में स्त्री-स्वातंत्र्य की चेतना भी एक ठोस रूप ग्रहण कर रही थी। हिन्दी में तत्कालीन नारीवादी चिन्तन में जिन लोगों ने दूरगामी भूमिका अदा की उनमें उमा नेहरू अग्रणी हैं। यह देखना दिलचस्प है कि स्त्री की निम्न दशा के लिए उनकी आर्थिक पराधीनता मुख्य कारण है, इस सच्चाई को उन्होंने उसी समय समझ लिया था; और पुरुष नारीवादियों द्वारा पाश्चात्य स्त्री-छवि के सन्दर्भ में किए गए ‘किन्तु-परन्तु’ वाले नारी-विमर्श की सीमाओं को भी। उमा नेहरू ने इन दोनों बिन्दुओं को ध्यान में रखते हुए स्त्री-पराधीनता और स्वाधीनता, दोनों की ठीक-ठीक पहचान की। ‘अच्छी स्त्री’ और ‘स्त्री के आत्मत्याग’ जैसी धारणाओं पर उन्होंने निर्भीकतापूर्वक लिखा कि ‘जो आत्मत्याग अपनी आत्मा, अपने शरीर का विनाशक हो... वह आत्महत्या है।’ भारतीय समाज के अन्धे परम्परा-प्रेम पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय और राजनीतिक प्रश्नों के अलावा जो सबसे बड़ा प्रश्न संसार के सामने है, वह यह कि आनेवाले समय और समाज में स्त्री के अधिकार क्या होंगे। यह पुस्तक उमा नेहरू के 1910 से 1935 तक विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में छपे आलेखों का संग्रह है। संसद में दिए उनके कुछ भाषणों को भी इसमें शामिल किया गया है जिनसे उनके स्त्री-चिन्तन के कुछ और पहलू स्पष्ट होते हैं। परम्परा-पोषक समाज को नई चेतना का आईना दिखानेवाले ये आलेख आज की परिस्थितियों में भी प्रासंगिकता रखते हैं और भारत में नारीवाद के इतिहास को समझने के सिलसिले में भी।

Enjoying reading this book?
HardBack ₹695
Print Books
Digital Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 248
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789389577952
  • Category: Criticism & Interviews
  • Related Category: Politics & Current Affairs
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Pahachan Ke Naam Par Hatyaye by Amin Maluf
Jati Vyavstha by Sachchidanand Sinha
Ye Matayen Unbyahee by Dr. Sunita Sharma, Amarendra Kishor
Main Wo Shankh Mahashankh by Arun Kamal
Kam Se Kam by Ashok Vajpeyi
Mughal Kaleen Bharat : Humayu : Vol.-1 by
Books from this publisher
Related Books
Sang Satsang Namvar Singh
Stree Kavita : Paksh Aur Pariprekshya - 1 Rekha Sethi
Stree Kavita : Pahachan Aur Dwandwa - 2 Rekha Sethi
Chandrakanta (Santati) Ka Tilism Wagish Shukla
Stree Kavita : Paksh Aur Pariprekshya - 1 Rekha Sethi
Stree Kavita : Pahachan Aur Dwandwa - 2 Rekha Sethi
Related Books
Bookshelves
Stay Connected