logo
Home Literature Poetry Nauva Geet
product-img product-img
Nauva Geet
Enjoying reading this book?

Nauva Geet

by Ravindranath Tagore
4.8
4.8 out of 5

publisher
Creators
Author Ravindranath Tagore
Publisher Rajpal
Synopsis 1913 में रवीन्द्रनाथ टैगोर को जब साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया तो वे एशिया और भारत के पहले नोबेल पुरस्कार विजेता थे। बहुआयामी व्यक्तित्व वाले रवीन्द्रनाथ टैगोर साहित्यकार, चित्रकार, चिंतक, और दार्शनिक थे। उन्होंने छोटी उम्र में ही कविता लिखना शुरू किया और सोलह वर्ष की उम्र में उनका पहला कविता-संग्रह प्रकाशित हुआ। उपन्यास, कहानी, गीत, नृत्य-नाटिका, निबंध, यात्रा-वृतांत- सभी विधाओं को उन्होंने अपनी लेखनी से समृद्ध किया। भारत और बांग्लादेश, दोनों ही देशों के राष्ट्रगान इनके लिखे हुए हैं। अपने जीवन काल में इन्होंने विश्वभारती विद्यालय और शांति निकेतन विश्वविद्यालय की स्थापना की जो आज भी प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को शिक्षा के साथ जीवन-मूल्य प्रदान करता है। इस पुस्तक में हिन्दी के जाने-माने लेखक और कवि सुरेश सलिल का टैगोर की कुछ श्रेष्ठ कविताओं का हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत है।

Enjoying reading this book?
Binding: PaperBack
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajpal
  • Pages: 96
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9789350642184
  • Category: Poetry
  • Related Category: Literature
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Andhere Mein Ek Chehra by Ruskin Bond
Shakespeare Ki Kahaniyan by Shakespeare
Classic Folk Tales From India : Akbar Birbal Vol III by Rajpal Graphic Studio
Rani Sarandha by Premchand
Bhola Raja by Ravindranath Tagore
Hum Ek Hain by Dharmpal Shastri
Books from this publisher
Related Books
Kabuliwala Ravindranath Tagore
Nyay Ravindranath Tagore
Masterji Ravindranath Tagore
Geetanjali Ravindranath Tagore
Geetanjali Ravindranath Tagore
Geetanjali Ravindranath Tagore
Related Books
Bookshelves
Stay Connected