logo
Home Literature Poetry Geetanjali
product-img product-img
Geetanjali
Enjoying reading this book?

Geetanjali

by Ravindranath Tagore
4.4
4.4 out of 5

publisher
Creators
Author Ravindranath Tagore
Publisher Rajpal
Synopsis गीतांजलि वह महान काव्य-कृति है, जिसने कवि रवींद्रनाथ टैगोर को वर्ष 1913 में एशिया के पहले नोबेल पुरस्कार प्राप्त व्यक्ति होने का सम्मान दिलाया। उनकी इसी रचना ने यह सिद्ध किया कि कथाशिल्पी, चित्रकार तथा चिंतक-दार्शनिक होने के बावजूद वह सबसे पहले एक सम्पूर्ण कवि हैं। गीतांजलि एक संपूर्ण विश्व ईश्वर का काव्य है। इसमें कवि का विश्व-व्यापी सरोकार संगीतात्मक ढंग से प्रस्तुत हुआ है। यह लय और तरंग से सज्जित आध्यात्मिक कृति है, जिसे कवि ने नई सज-धज से भारतीय संस्कृति में पिरोकर विश्व के सामने रखा है। इन रचनाओं में भक्ति भाव का वह रूप है, जो विरक्ति को परे रखकर प्रेम और तन्मयता से निर्वाह पाता है और इसी साधना के बल पर रवींद्रनाथ ठाकुर इतने बड़े रचनाकार के रूप में ठहर पाते हैं। गीतांजलि में प्रस्तुत रवींद्रनाथ टैगोर के ये गीत अपने एक-एक पद में मधुर संगीत ध्वनित करते हैं।

Enjoying reading this book?
Binding: PaperBack
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajpal
  • Pages: 136
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9788170287698
  • Category: Poetry
  • Related Category: Literature
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Pashu by Devdutt Pattanaik
Rajpal Advanced Learners Hindi English Dictionary (Part 1: From A to M) by Hardev Bahri
Konark by Pratibha Rai
Aur Ek Devdas by Bimal Mitra
Mera Jeevan Darshan by Karan Singh
Buddhi Ka Chamatkar by Bhagwatsharan Upadhyay
Books from this publisher
Related Books
Kabuliwala Ravindranath Tagore
Nyay Ravindranath Tagore
Masterji Ravindranath Tagore
Geetanjali Ravindranath Tagore
Geetanjali Ravindranath Tagore
Nauva Geet Ravindranath Tagore
Related Books
Bookshelves
Stay Connected