logo
Home Literature Novel Nahin, Kahin Kuchh Bhi Nahin…
product-img product-img
Nahin, Kahin Kuchh Bhi Nahin…
Enjoying reading this book?

Nahin, Kahin Kuchh Bhi Nahin…

by TASLIMA NASRIN
4.4
4.4 out of 5

publisher
Creators
Publisher Vani Prakashan
Synopsis तसलीमा नसरीन बांग्लादेश की लेखिका हैं। उनकी आत्मकथा का 6वां खंड ‘नहीं,कहीं कुछ भी नहीं..’ के रोप में पाठकों के सामने है जिसे उन्होने अपनी माँ को समर्पित किया है। जिसमे उनके जीवन के वो पल मौजूद है जो उनकी माँ को केंद्र में रख कर लिखे हैं।

Enjoying reading this book?
Binding: HardBack
About the author तसलीमा नसरीन सुख्यात लेखक और मानवतावादी विचारक हैं। अपने विचारों और लेखन के लिए उन्हें अकसर फ़तवों का सामना करना पड़ा। विवादास्पद उपन्यास ‘लज्जा’ पर उन्हें उनके देश से निष्कासित कर दिया गया जहाँ वे 1994 से नहीं गईं। भारत समेत कई देशों से उन्हें विभिन्न सम्मानित पुरस्कारों और मानद उपाधियों से विभूषित किया जा चुका है। दुनिया की लगभग तीस भाषाओं में उनकी रचनाओं का अनुवाद हो चुका है।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 312
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789350008454
  • Category: Novel
  • Related Category: Modern & Contemporary
Share this book Twitter Facebook
Related Videos
Mr.


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Yaar Julahe… by Gulzar
Prachchhann : Mahasamar6 by Narendra Kohli
Machhliyan Gayengi Ek Din Pandumgeet by Poonam Vasam
Atakaran Ka Aaytan by
Hindi Ki Anistharta : Ek Etihasik Behas by Bharat Yayawar
Himyugi Chattanen by G. Gopinathan
Books from this publisher
Related Books
Besharam : Lajja Upanyas Ki Uttar-Katha Taslima Nasrin
Nishiddh Taslima Nasrin
Nishiddh Taslima Nasrin
Mujhe Dena Aur Prem Taslima Nasrin
Aurat Ka Koi Desh Nahin TASLIMA NASRIN
Aurat Ke Haq Mein Taslima Nasrin
Related Books
Bookshelves
Stay Connected