logo
Home Reference Society Tabdeel Nigahein
product-img
Tabdeel Nigahein
Enjoying reading this book?

Tabdeel Nigahein

by Maitreyi Pushpa
4.3
4.3 out of 5
Creators
Publisher Kitabghar Prakashan
Synopsis तबदील निगाहें किसी भी व्यक्ति, विषय या कृति के संबंध में जो सिद्धांत, मान्यताएं और अवधारणाएं, वर्षों या सदियों पहले सही मान ली गई थीं, जरूरी नहीं कि हर युग में उनको उसी रूप में स्वीकार किया जाए। समय और परिस्थितियों से उपजे सवाल, उसे अपने मानकों पर कसते हैं। हालांकि सच यह भी है कि साहित्य और समाज में वर्षों से चली आ रही मान्यताओं और प्रतिमानों को खंडित करने का साहस यदा-कदा ही किया जाता है, क्योंकि बहुजन के दबाव और विरोध को सहकर अपनी बात कहने से प्रायः बुद्धिजीवी लोग बचने में ही अपनी भलाई समझते हैं। बावजूद इसके कुछ रचनाकार अपवाद रहे हैं। सच को पूरे साहस से कहने वाली रचनाकारों में सम्मिलित मैत्रेयी पुष्पा ने इस पुस्तक के संकलित लेखों में कुछ ऐसा ही प्रयास किया है। ‘उसने कहा था’, ‘गोदान’, ‘चित्रालेखा’, ‘धु्रवस्वामिनी’, ‘त्यागपत्र’, ‘मैला आंचल’ और ‘राग दरबारी’ जैसी अपने समय की कालजयी रचनाओं को बिलकुल अलग निगाह से देखतीं और उसके स्त्री-पात्रों के मन में सोए पड़े सवालों को उघाड़कर उन्होंने एक नई बहस को आधार प्रदान किया है। इन कृतियों के संदर्भ में लेखिका द्वारा उठाए गए सवाल, न केवल पढ़ने वाले को बेचैन कर सकते हैं बल्कि इन्हें नए तरह से तबदील निगाहों के जरिए पुनर्मूल्यांकित करने की मांग भी करते हैं। कई पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके और कुछ अवसरों पर दिए गए इन वक्तव्यों में मैत्रेयी पुष्पा के भीतर की आलोचकीय दृष्टि भी सघन रूप से प्रकट हुई है। बनी-बनाई धारणाओं और अपनी कूपमंडूकता में आनंदित रहने वाले आलोचकों के लिए यह पुस्तक एक सबक की तरह हो सकती है। –विज्ञान भूषण

Enjoying reading this book?
Binding: HardBack
About the author Maitreyi Pushpa (मैत्रेयी पुष्पा) (born 30 November 1944), is a Hindi fiction writer. An eminent writer in Hindi, Maitreyi Pushpa has ten novels and seven short story collections to her credit. She also writes prolifically for newspapers on current issues concerning women, and adopts a questioning, daring and challenging stance in her writings. She, as a writer is best known for her Chak, Alma Kabutari, Jhoola Nat and an autobiographical novel Kasturi Kundal Base.
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Kitabghar Prakashan
  • Pages:
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789382114024
  • Category: Society
  • Related Category: Art & Culture
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Rashtra Kavi Ka Stri Vimrash by Prabhakar Shrotriya
Shivani Ka Katha Sahitya Yug-Parivesh-Sanskriti Ka Sandarbh by Dr. Sushil Bala
Dus Pratinidhi Kahaniyan : Usha Priyamvada by Usha Priyamwada
Premchand ki Amar Kahaniyan by
Sant Ravidas Ki Ramkahani by Dr. Davendra Deepak
Beesaveen sadee kee laghukathaa-2 by
Books from this publisher
Related Books
Piyari Ka Sapana Maitreyi Pushpa
Khuli Khidkiyan Maitreyi Pushpa
charcha Hamara Maitreyi Pushpa
Dus Pratinidhi Kahaniyan : Maitreyi Pushpa Maitreyi Pushpa
Mere Saakshatkaar : Maitreyi Pushpa Maitreyi Pushpa
Samgra Kahaniyan : Ab Tak Maitreyi Pushpa
Related Books
Bookshelves
Stay Connected