logo
Home Literature Literature Media Ki Bhasha Leela
product-img product-img
Media Ki Bhasha Leela
Enjoying reading this book?

Media Ki Bhasha Leela

by Ravikant
4.7
4.7 out of 5

publisher
Creators
Author Ravikant
Publisher Vani Prakashan
Synopsis यह पुस्तक जन-माध्यम के आर-पार अध्ययन कि एक दलील है, चूंकि उनकी परस्पर निर्भरता ऐतिहासिक तौर पर लाजिमी साबित होती है। यह सही है कि राष्ट्र के बदलते भूगोल के सैट-साथ संस्कृति को देखने-परखने के नजरिये में बदलाव आते हैं, लेकिन आधुनिक मीडिया-तकनीक और बाज़ार लोकप्रिय संस्कृतियों कि आवाजाही के ऐसे साधन मुहैया करतते हैं, जिन पर राष्ट्रीय भूगोल कि फ़ौरी संकीर्णता हावी नहीं हो पाती। साहित्य-आधारित सिनेमा पर बातें करने कि रिवायत पुरानी है, लेकिन यह देखने का वक़्त आ गया है कि सिनेमा ने साहित्य कि शैली, उसकी भाषा पर कौन से असरात छोड़े हैं। यह पुस्तक आपको कई नये पहलुओं से अवगत कराएगी।

Enjoying reading this book?
HardBack ₹895
PaperBack ₹395
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 180
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789352295111
  • Category: Literature
  • Related Category: Literature
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Samakaleen Bodh Dhoomil Ka Kavya by Dr.Hukumchand Rajpal
Hindi Uchcharan Kosh by Bholanath Tiwari
Vijay Ki Pratiksha by Buddhdev Bhattacharya
Kaali Aurat Ka Khwab by IRSHAD KAMIL
Ghareeb - Shaher by Kunwar Pal Singh
Nibandhon Ki Duniya : Vijaydev Narayan Sahi by Ed. Nirmala Jain
Books from this publisher
Related Books
Aaj Ke Aiene Mein Rashtravad Ravikant
Media Ki Bhasha Leela Ravikant
Deewan -A-Sarai 02: Shaharnama Ravikant
DeewanESarai : Shaharnama Ravikant
Related Books
Bookshelves
Stay Connected