logo
Home Literature Literature Media Ki Bhasha Leela
product-img
Media Ki Bhasha Leela
Media Ki Bhasha Leela
by Ravikant
4.7
4.7 out of 5
Creators
Author Ravikant
Publisher Vani Prakashan
Synopsis यह पुस्तक जन-माध्यम के आर-पार अध्ययन कि एक दलील है, चूंकि उनकी परस्पर निर्भरता ऐतिहासिक तौर पर लाजिमी साबित होती है। यह सही है कि राष्ट्र के बदलते भूगोल के सैट-साथ संस्कृति को देखने-परखने के नजरिये में बदलाव आते हैं, लेकिन आधुनिक मीडिया-तकनीक और बाज़ार लोकप्रिय संस्कृतियों कि आवाजाही के ऐसे साधन मुहैया करतते हैं, जिन पर राष्ट्रीय भूगोल कि फ़ौरी संकीर्णता हावी नहीं हो पाती। साहित्य-आधारित सिनेमा पर बातें करने कि रिवायत पुरानी है, लेकिन यह देखने का वक़्त आ गया है कि सिनेमा ने साहित्य कि शैली, उसकी भाषा पर कौन से असरात छोड़े हैं। यह पुस्तक आपको कई नये पहलुओं से अवगत कराएगी।

HardBack ₹895
PaperBack ₹395
Print Books
About the author Not Available
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 180
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789352295111
  • Category: Literature
  • Related Category: Literature
Share this book
Books from this publisher
Kahin Kuchh Kam Hai by Shahryaar
Dalit Sahaitya Ka Saundrya Shastra by Dr. Sharan Kumar Limbale
Ramcharitmanas Aur Kamayani by Matuk Nath Choudhary
Deewar Mein Ek Khirkee Rahati Thee by Vinod Kumar Shukla
Gatha Bhoganpuri by Kishor Kumar Sinha
Rachana Prakriya Se Joojhte Huye by Leeladhar Jagoori
Books from this publisher
Related Books
Aaj Ke Aiene Mein Rashtravad Ravikant
Media Ki Bhasha Leela Ravikant
Deewan -A-Sarai 02: Shaharnama Ravikant
DeewanESarai : Shaharnama Ravikant
feedImg Amar Chitra Katha 1 by Ed. Jainedra Kumar
Related Books
Bookshelves
Stay Connected