logo
Home Literature Short Stories Ek Plate Sailab
product-img
Ek Plate Sailab
Enjoying reading this book?

Ek Plate Sailab

by Mannu Bhandari
4.6
4.6 out of 5

publisher
Creators
Publisher Radhakrishna Prakashan
Synopsis साहस और बेबाकबयानी के कारण मन्नू भंडारी ने हिन्दी कथा-जगत् में अपनी एक अलग पहचान बनाई है। नैतिक-अनैतिक से परे यथार्थ को निर्द्वन्द्व निगाहों से देखना उनके कथ्य और उनकी कहन को हमेशा नया और आधुनिक बनाता है। मैं हार गई, तीन निगाहों की एक तस्वीर, यही सच है और त्रिशंकु संग्रहों की कहानियाँ उनकी सतत जागरूक, सक्रिय विकासशीलता को रेखांकित करती हैं। आलोचकों और पाठकों ने मन्नूजी की जिन विशेषताओं को स्वीकार किया है, वे हैं उनकी सीधी-साफ भाषा, शैली का सरल और आत्मीय अंदाज, सधा-सुथरा शिल्प और कहानी के माध्यम से जीवन के किसी स्पन्दित क्षण को पकड़ना। कहना न होगा कि इस संग्रह में शामिल सभी कहानियाँ इन विशेषताओं का निर्वाह करती हैं। एक प्लेट सैलाब, बंद दराजों के साथ, सजा, नई नौकरीदृये सभी कहानियाँ अक्सर चर्चा में रही हैं और इनमें मन्नूजी की कला निश्चय ही एक नया मोड़ लेती हैदृजटिल और गहरी सच्चाइयों के साहसपूर्ण साक्षात्कार का प्रयत्न करती है।

Enjoying reading this book?
Binding: PaperBack
About the author April 3, 1931 भानपुरा, मध्य प्रदेश में 3 अप्रैल, 1931 को जन्मी मन्नू भंडारी को लेखन-संस्कार पिता श्री सुखसम्पतराय से विरासत में मिला। स्नातकोत्तर के उपरान्त लेखन के साथ-साथ वर्षों दिल्ली विश्वविद्यालय के मिरांडा हाउस में हिन्दी का अध्यापन। विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन में प्रेमचन्द सृजनपीठ की अध्यक्ष भी रहीं। 'आपका बंटी’ और 'महाभोज’ आपकी चर्चित औपन्यासिक कृतियाँ हैं। अन्य उपन्यास हैं 'एक इंच मुस्कान’ (राजेन्द्र यादव के साथ) तथा 'स्वामी’। ये सभी उपन्यास 'सम्पूर्ण उपन्यास’ शीर्षक से एक जिल्द में भी उपलब्ध है। कहानी संग्रह हैं : एक प्लेट सैलाब, मैं हार गई, तीन निगाहों की एक तस्वीर, यही सच है, त्रिशंकु, तथा सभी कहानियों का समग्र 'सम्पूर्ण कहानियाँ’, एक कहानी यह भी उनकी आत्मकथ्यात्मक पुस्तक है जिसे उन्होंने अपनी 'लेखकीय आत्मकथा’ कहा है। महाभोज, बिना दीवारों के घर, उजली नगरी चतुर राजा नाट्य-कृतियाँ तथा बच्चों के लिए पुस्तकों में प्रमुख हैं—आसमाता (उपन्यास), आँखों देखा झूठ, कलवा (कहानी) आदि।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Radhakrishna Prakashan
  • Pages: 151
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9788171197125
  • Category: Short Stories
  • Related Category: Novella
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Gandi Baat by Kshitiz Roy
Path by Rajesh Maheshwari
Uska To Koi Gaon Hoga Hi Nahi by Manoj Kumar Sharma
Gurukul-2 by Anita Rakesh
Game Hasti Ka Ho Kis Se…! by Vijay Mohan Singh
Computer V Soochana Prodyogiki Shabdkosh by Vinod Kumar Mishra
Books from this publisher
Related Books
Rajnigandha Mannu Bhandari
Mannu Bhandari Ki Yaadgari Kahaniyan Mannu Bhandari
Mere Saakshaatkaar : Mannu Bhandari Mannu Bhandari
Dus Pratinidhi Kahaniyan : Mannu Bhandari (Text Book) Mannu Bhandari
Mannu Bhandari Ki Yaadgari Kahaniya Mannu Bhandari
KathaPatkatha Mannu Bhandari
Related Books
Bookshelves
Stay Connected