logo
Home Reference Criticism & Interviews Chintamani
product-img
Chintamani
Enjoying reading this book?

Chintamani

by Ramchandra Shukla
4.2
4.2 out of 5

publisher
Creators
Author Ramchandra Shukla
Publisher Lokbharti Prakashan
Synopsis ‘‘यदि वाणी की शक्ति ईश्वर का सबसे उत्तम प्रसाद है; यदि भाषा की उत्पत्ति बहुत-से विद्वानों द्वारा ईश्वर से मानी गयी है ? यदि शब्दों द्वारा अन्तःकरण के गुप्त रहस्य प्रकट किये जाते हैं; चित्त की वेदना को शान्ति दी जाती है; हृदय में बैठा हुआ शोक बाहर निकाल दिया जाता है; दया उत्पन्न की जाती है और बुद्धि चिरस्थायी बनायी जाती है; यदि बड़े ग्रन्थकारों द्वारा बहुत-से मनुष्य मिलकर एक बनाये जाते हैं; जातीय लक्षण स्थापित होता है; भूत और भविष्य तथा पूर्व और पश्चिम एक-दूसरे के सम्मुख उपस्थित किये जाते हैं; और यदि ऐसे लोग मनुष्य जाति में अवतार-स्वरूप माने जाते हैं - तो साहित्य की अवहेलना करना और उसके अध्ययन से मुख मोड़ना कितनी बड़ी भारी कृतघ्नता है !’’ ‘साहित्य’ शीर्षक निबन्ध से

Enjoying reading this book?
Binding: HardBack
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Lokbharti Prakashan
  • Pages: 234
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9788180317323
  • Category: Criticism & Interviews
  • Related Category: Politics & Current Affairs
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Uttar Aadhunikta Aur Samkalin Katha-Sahitya by Dr. Lakshmi Gautam
Pran-Bhang Tatha Anya Kavitayen : Dinkar Granthmala by Ramdhari Singh Dinkar
Swatantroyottar Hindi Natak : Mulya Sankraman by Jyotishwar Mishra
Vishwa Sabhyata Ka Itihas by Udai Narain Rai
Samta Aur Sampannta by Rammanohar Lohiya
Nirala : Aatmhanta Astha by Doodhnath Singh
Books from this publisher
Related Books
Hindi Sahitya Ka Itihas Ramchandra Shukla
Chintamani : Vol.-3 Ramchandra Shukla
Hindi Sahitya Ka Itihas Ramchandra Shukla
Jayasi Granthawali Ramchandra Shukla
Related Books
Bookshelves
Stay Connected