logo
Home Reference Criticism & Interviews Chintamani
product-img
Chintamani
Enjoying reading this book?

Chintamani

by Ramchandra Shukla
4.2
4.2 out of 5

publisher
Creators
Author Ramchandra Shukla
Publisher Lokbharti Prakashan
Synopsis ‘‘यदि वाणी की शक्ति ईश्वर का सबसे उत्तम प्रसाद है; यदि भाषा की उत्पत्ति बहुत-से विद्वानों द्वारा ईश्वर से मानी गयी है ? यदि शब्दों द्वारा अन्तःकरण के गुप्त रहस्य प्रकट किये जाते हैं; चित्त की वेदना को शान्ति दी जाती है; हृदय में बैठा हुआ शोक बाहर निकाल दिया जाता है; दया उत्पन्न की जाती है और बुद्धि चिरस्थायी बनायी जाती है; यदि बड़े ग्रन्थकारों द्वारा बहुत-से मनुष्य मिलकर एक बनाये जाते हैं; जातीय लक्षण स्थापित होता है; भूत और भविष्य तथा पूर्व और पश्चिम एक-दूसरे के सम्मुख उपस्थित किये जाते हैं; और यदि ऐसे लोग मनुष्य जाति में अवतार-स्वरूप माने जाते हैं - तो साहित्य की अवहेलना करना और उसके अध्ययन से मुख मोड़ना कितनी बड़ी भारी कृतघ्नता है !’’ ‘साहित्य’ शीर्षक निबन्ध से

Enjoying reading this book?
HardBack ₹300
Print Books
Digital Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Lokbharti Prakashan
  • Pages: 234
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9788180317323
  • Category: Criticism & Interviews
  • Related Category: Politics & Current Affairs
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Ramabai by Jyotsana Devdhar
Vyakaran Pradeep by Ramdev M. A.
Thasak by Mamta Kaliya
Man Ke : Soor Ke by Keshavchandra Varma
Aanewali Sadi Ke Liye by Nimai Mukhopadhyay
Shriramcharitmanas by
Books from this publisher
Related Books
Hindi Sahitya Ka Itihas Ramchandra Shukla
Chintamani : Vol.-3 Ramchandra Shukla
Hindi Sahitya Ka Itihas Ramchandra Shukla
Jayasi Granthawali Ramchandra Shukla
Related Books
Bookshelves
Stay Connected