logo
Home Reference Criticism & Interviews Chintamani : Vol.-3
product-img
Chintamani : Vol.-3
Enjoying reading this book?
Recommended by 1 Readers.

Chintamani : Vol.-3

by Ramchandra Shukla
4.1
4.1 out of 5

publisher
Creators
Author Ramchandra Shukla
Publisher Rajkamal Prakashan
Synopsis चिन्तामणि का यह तीसरा भाग आचार्य रामचन्द्र शुक्ल के अब तक असंकलित ऐसे इक्कीस निबंधों का अनूठा संग्रह है जो पुरानी पत्रिकाओं में बिखरे रहने और अप्राप्य पुस्तकों की भूमिका के रूप में प्रकाशित होने के कारण प्राय: दुर्लभ रहे हैं । इन निबंधों में गोरखपुर के ‘स्वदेश’ में प्रकाशित ‘क्षात्रधर्म का सौन्दर्य’ और ‘प्रेमा’ में प्रकाशित ‘प्रेम आनन्द–स्वरूप है’ ऐसे निबन्ध हैं जिनकी जानकारी भी लोगों को नहीं है । ‘हंस’ के आत्मकथा अंक में प्रकाशित ‘प्रेमघन की छाया स्मृति’ भी ऐसा ही निबन्ध है जो लगभग अचर्चित रहा है, जबकि आचार्य के आरम्भिक जीवन की झाँकी के लिए वह अनमोल दस्तावेज़ है । ‘साहित्य’ और ‘उपन्यास’ शीर्षक आरम्भिक निबंधों से जहाँ शुक्लजी के एतद्विषयक अनुपलब्ध विचार पहली बार प्रकाश में आते हैं, वहाँ 1909 की ‘सरस्वती’ में प्रकाशित ‘कविता क्या है’ इसी शीर्षक के सर्वविदित परवर्ती निबन्ध के प्रथम प्रारूप की हैसियत से ऐतिहासिक महत्त्व रखता है । इसी प्रकार ‘कल्पना का आनन्द’ यद्यपि हाईस्कूल के एक छात्र का अनुवाद है, फिर भी आचार्य शुक्ल के ‘काव्य में प्राकृतिक दृश्य’ तथा ‘रसात्मक बोध के विविध रूप’ जैसे प्रौढ़ निबंधों के लिए वह नींव का पत्थर है । भूमिकाओं में यदि ‘विश्व प्रपंच’ की भूमिका आचार्य शुक्ल के जीवन–दर्शन के वैज्ञानिक पक्ष को जानने के लिए अनिवार्य दस्तावेज़ है तो ‘शेष स्मृतियाँ’ की ‘प्रवेशिका’ उनकी ऐतिहासिक अनुसन्धान में रुचि तथा गति के लिए । साहित्य–चिन्तक शुक्लजी हिन्दी भाषा मुख्यत: काव्यभाषा की भाषावैज्ञानिक तथा व्याकरणिक समस्याओं में कितनी अन्तर्दृष्टि रखते थे इसका प्रमाण है ‘बुद्धचरित की भूमिका’ में ब्रजभाषा, अवधी और खड़ी बोली के स्वरूप का व्यतिरेकी विश्लेषण । इन भूमिकाओं के अतिरिक्त दो ऐतिहासिक भाषण भी संकलित हैं जिनसे आचार्य के व्यक्तित्व का एक नया पक्ष सामने आता है । इस प्रकार यह पुस्तक एक चिरकांक्षित आवश्यकता की पूर्ति का सारस्वत प्रयास है, जिसके महत्त्व का आभास सम्पादक की शोधपूर्ण भूमिका से हो सकता है ।

Enjoying reading this book?
Recommended by 1 Readers.
HardBack ₹350
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 276
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 8126708131
  • Category: Criticism & Interviews
  • Related Category: Politics & Current Affairs
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Bhagat Singh Ko Fansi : Vol.-1 by Dr. Gurudev Singh Sindhu
Nirvasit by Ilachandra Joshi
Anitya by Mridula Garg
Poorva-Rang by Namvar Singh
Hindu Hindutva Hindustan by Sudhir Chandra
Dhoop Ghari by Rajesh Joshi
Books from this publisher
Related Books
Hindi Sahitya Ka Itihas Ramchandra Shukla
Chintamani Ramchandra Shukla
Hindi Sahitya Ka Itihas Ramchandra Shukla
Jayasi Granthawali Ramchandra Shukla
Related Books
Bookshelves
Stay Connected