logo
Home Literature Historical Chanakya Ke Jassos
product-img
Chanakya Ke Jassos
Enjoying reading this book?

Chanakya Ke Jassos

by Trilok Nath Pandey
4.3
4.3 out of 5

publisher
Creators
Publisher Rajkamal Prakashan
Synopsis ‘चाणक्य के जासूस’ अनेक अर्थों में एक महत्त्वपूर्ण कृति है। यह न केवल इतिहास को एक नई दृष्टि से देखती है बल्कि जासूसी के तमाम पुरातन-ऐतिहासिक तकनीकियों का विशद विवेचन भी करती है। चाणक्य के बारे में प्रचलित अनगिनत मिथकों से इतर इसमें हमें उनका वह रूप दिखलाई पड़ता है, जो जासूसी का शास्त्र विकसित करता है और उसे राजनीतिशास्त्र का अपरिहार्य अंग बनाकर मगध साम्राज्य के शक्तिशाली किंतु अहंकारी शासक धननन्द का अन्त संभव करता है। बेशक धननन्द का महामात्य कात्यायन जो इतिहास में राक्षस के रूप में प्रसिद्ध है, भी जासूसी में कम प्रवीण न था, लेकिन उसके पास केवल सत्ता-बल था। उसकी जासूसी विद्या नैतिकता की बजाय निजी स्वार्थपरता से संचालित थी। लेकिन चाणक्य ने अपनी जासूसी में व्यावहारिकता और नैतिकता का सामंजस्य हमेशा बनाए रखा और मगध साम्राज्य की जनता के कल्याण के उद्देश्य को कभी नहीं भूला। यह उपन्यास दिखलाता है कि चाणक्य ने सम्राट धननन्द को खून की एक भी बूंद बहाए बिना अपने बुद्धिबल से मगध साम्राज्य के सिंहासन से अपदस्थ किया और चंद्रगुप्त को उस पर बिठाकर राष्ट्र के सुदृढ़ भविष्य का मार्ग प्रशस्त किया। इसमें इतिहास का निर्माण करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाला वह जासूसी तंत्र अपने पूरे विस्तार में दिखलाई पड़ता है, जो हमेशा से नेपथ्य में रहकर ही अपना काम करता है। इतिहास का एक महत्वपूर्ण कालखंड इस उपन्यास का आधार है। लेकिन यह एक साहित्यिक कृति है। इसलिए इतिहास को दुहराने की बजाय इसमें उस कालखंड के ऐतिहासिक मर्म को तथ्यसंगत ढंग से प्रस्तुत किया गया है, जिसकी प्रासंगिकता आज भी कायम है। उपन्यास में लेखक ने जासूसी की आधुनिक विधियों का भी पर्याप्त उल्लेख किया है और तमाम ऐतिहासिक और आधुनिक सन्दर्भों से उसे विश्सनीय बनाया है। इस लिहाज से यह खासा शोधपूर्ण उपन्यास है, खासकर इसलिए भी कि ख़ुद लेखक भी लम्बे समय तक जासूसी सेवा में रहा है। बेहद पठनीय और रोमांचक कृति! —शशिभूषण द्विवेदी

Enjoying reading this book?
Binding: Paperback
About the author श्री त्रिलोकनाथ पांडेय भारत सरकार में वरिष्ठ अधिकारी, गुप्तचर विभाग - गृह मंत्रालय से सेवानिवृत्त हुए हैं। वे सराहनीय सेवाओं के लिए भारतीय पुलिस पदक (2010) एवं विशिष्ट सेवाओं के लिए राष्ट्रपति द्वारा पुलिस पदक (2017) से अलंकृत हो चुके हैं। श्री पांडेय अंग्रेजी व् हिंदी दोनों भाषाओँ में लिखते हैं। उनके दो उपन्यास 'प्रेम लहरी' व 'चाणक्य के जासूस' राजकमल प्रकाशन द्वारा प्रकाशित हुए हैं।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 344
  • Binding: Paperback
  • ISBN: 9789389598421
  • Category: Historical
  • Related Category: History
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Renu Rachanawali : Vols.-1-5 by Phanishwarnath Renu
Ateet Hoti Sadi Aur Stree Ka Bhavishya by
Ishwar Bhi Pareshan Hai by Vishnu Nagar
Soor Sahitya by Hazariprasad Dwivedi
Andhera by Akhilesh
Hum Hushmat : Vol.-2 by Krishna Sobti
Books from this publisher
Related Books
Sampoorna Kahaniyan : Akhilesh Akhilesh
Pratinidhi Kavitayen : Suryakant Tripathi 'Nirala' Suryakant Tripathi 'Nirala'
Sampoorna Kahaniyan : Akhilesh Akhilesh
Sampoorna Kahaniyan : Akhilesh Akhilesh
Hindi Ki Pahali Adhunik Kavita Sudipti
Lal Peeli Zameen Govind Mishra
Related Books
Bookshelves
Stay Connected