logo
Home Literature Poetry Samay Ke Shahar Mein
product-img product-imgproduct-img
Samay Ke Shahar Mein
Enjoying reading this book?

Samay Ke Shahar Mein

by Anamika
4.5
4.5 out of 5

publisher
Creators
Author Anamika
Publisher
Synopsis

Enjoying reading this book?
PaperBack ₹299
Print Books
About the author अनामिका का जन्म 17 अगस्त, 1961, मुजफ्फरपुर, बिहार में हुआ । इन्होंने एम.ए., पीएच.डी.( अंग्रेजी), दिल्ली विश्वविद्यालय से प्राप्त की । उन्हें हिंदी कविता में अपने विशिष्ट योगदान के कारण राजभाषा परिषद् पुरस्कार, साहित्य सम्मान, भारतभूषण अग्रवाल एवं केदार सम्मान पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। समकालीन हिन्दी कविता की चंद सर्वाधिक चर्चित कवयित्रियों में वे शामिल की जाती हैं। अंग्रेज़ी की प्राध्यापिका होने के बावजूद अनामिका ने हिन्दी कविता कोश को समृद्ध करने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी है। प्रख्यात आलोचक डॉ. मैनेजर पांडेय के अनुसार "भारतीय समाज एवं जनजीवन में जो घटित हो रहा है और घटित होने की प्रक्रिया में जो कुछ गुम हो रहा है, अनामिका की कविता में उसकी प्रभावी पहचान और अभिव्यक्ति देखने को मिलती है।" वहीं दिविक रमेश के कथनानुसार "अनामिका की बिंबधर्मिता पर पकड़ तो अच्छी है ही, दृश्य बंधों को सजीव करने की उनकी भाषा भी बेहद सशक्त है।"
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher:
  • Pages: 178
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9789389563016
  • Category: Poetry
  • Related Category: Literature
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Cultural Heritage of Assam by Sarit K. Chaudhuri
Hanuman Prasad Poddar : An Exalted Divinity by O.P. Gupta
DMRC (Delhi Metro Rail Corporation) Customer Relation Assistant (CRA) Recruitment Exam by Arihant Experts
HTET 20 Practice Sets Avem Solved Papers Level II by Arihant Experts
I-Succeed Sample Paper Paers Social Science Class 10th by Mr. Shiv Kumat Tyagi
Hindi Sulekh Pustak Part 4 by Dreamland Publications
Books from this publisher
Related Books
Working Women's Hostel Aur Anya Kavitayen Anamika
Aaina Saaz Anamika
Aaina Saaz Anamika
Paanch Kahaniyan : Stree-Drishti Anamika
Anushtup Anamika
Doob-Dhan Anamika
Related Books
Bookshelves
Stay Connected