logo
Home Literature Short Stories Rusty Ki Ghar Wapsi
product-img
Rusty Ki Ghar Wapsi
Rusty Ki Ghar Wapsi
by Ruskin Bond
4.3
4.3 out of 5
Creators
Author Ruskin Bond
Publisher Rajpal
Synopsis लम्बे अरसे से रस्किन बॉन्ड की पुस्तकों का लोकप्रिय पात्र, रस्टी, अपने कारनामों से पाठकों का मन लुभाता, गुदगुदाता और हँसाता आ रहा है। रस्टी ने पाठकों के मन में अपना एक विशेष स्थान बना लिया है और उसके किस्से-कहानियाँ से पाठक न थकता है, न ऊबता। लंदन से लौटने के बाद रस्टी देहरादून, दिल्ली और शाहगंज में कुछ समय बिताता है और आखिर में मसूरी के पहाड़ों में बस जाता है जहाँ वह बतौर लेखक अपना जीवन शुरू करता है। रस्टी फिर कभी मसूरी के पहाड़ों को छोड़कर कहीं नहीं जाता। रस्टी की कहानियों की शृंखला में यह पाँचवीं और आखिरी कड़ी है। इसमें पायेंगे रस्टी के कई दोस्तों-यारों के किस्से, जिसमें उसका खास दोस्त, सुरेश भी शामिल है, अंकल बिल जो लोगों को ज़हर देने की नई-नई तरकीबें सोचते रहते हैं और जिमी नामक जिन्न। कुछ अजीबोगरीब किरदार, कुछ प्यार-मोहब्बत के किस्सों से भरी रस्किन बॉन्ड की यह किताब हर उम्र के पाठकों को रास आयेगी। सहज भाषा और दिल को छू लेने वाले लेखक - यही है रस्किन बॉन्ड की खासियत जिसके कारण वह इतने लोकप्रिय हैं। ‘साहित्य अकादमी पुरस्कार’, ‘पद्मश्री’ और ‘पद्मभूषण’ से सम्मानित रस्किन बॉन्ड की अन्य उल्लेखनीय पुस्तकें हैं – रूम ऑन द रूफ़, वे आवारा दिन, एडवेंचर्स ऑफ़ रस्टी, नाइट ट्रेन ऐट देओली, दिल्ली अब दूर नहीं, उड़ान, पैन्थर्स मून, अंधेरे में एक चेहरा, अजब-गज़ब मेरी दुनिया, मुट्ठी भर यादें, रसिया, रस्टी और चीता, रस्टी जब भाग गया और रस्टी चला लंदन की ओर ।

PaperBack ₹250
Print Books
Digital Books
About the author Ruskin Bond is an Indian author of British descent. He is considered to be an icon among Indian writers and children's authors and a top novelist. He wrote his first novel, The Room on the Roof, when he was seventeen which won John Llewellyn Rhys Memorial Prize in 1957. Since then he has written several novellas, over 500 short stories, as well as various essays and poems, all of which have established him as one of the best-loved and most admired chroniclers of contemporary India. In 1992 he received the Sahitya Akademi award for English writing, for his short stories collection, "Our Trees Still Grow in Dehra", by the Sahitya Akademi, India's National Academy of Letters in India. He was awarded the Padma Shri in 1999 for contributions to children's literature. He now lives with his adopted family in Landour near Mussoorie.
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajpal
  • Pages: 176
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9789386534910
  • Category: Short Stories
  • Related Category: Novella
Share this book
Books from this publisher
Amazing Resumes & Dynamite Cover Letters by Prabbal Frank
Uttar Pradesh Ki Lok Kathayen by Savitri Devi Verma
Kaili Kamini Aur Anita by Amrita Pritam
Ped Lagao Khushahali Pao by Surendranath Saxena
Badi Begum by Acharya Chatursen
Rice, Biryani & Pulao by Sanjeev Kapoor
Books from this publisher
Related Books
Rusty Aur Cheetah Ruskin Bond
Rusty Jab Bhag Gaya Ruskin Bond
Mutthi Bhar Yadeein Ruskin Bond
Rasiya Ruskin Bond
NILI CHATTRI Ruskin Bond
Baazaar Ki Rah Mein RUSKIN BOND
feedImg Amar Chitra Katha 1 by Ed. Jainedra Kumar
Related Books
Bookshelves
Stay Connected