logo
Home Literature Literature Maun Muskaan Ki Maar
product-img product-imgproduct-img
Maun Muskaan Ki Maar
Enjoying reading this book?

Maun Muskaan Ki Maar

by Ashutosh Rana
4.2
4.2 out of 5
Creators
Author Ashutosh Rana
Publisher Prabhat Prakashan
Synopsis मैंने और अधिक उत्साह से बोलना शुरू किया, ‘‘भाईसाहब, मैं या मेरे जैसे इस क्षेत्र के पच्चीस-तीस हजार लोग लामचंद से प्रेम करते हैं, उनकी लालबत्ती से नहीं।’’ मेरी बात सुनकर उनके चेहरे पर एक विवशता भरी मुसकराहट आई, वे बहुत धीमे स्वर में बोले, ‘‘प्लेलना (प्रेरणा) की समाप्ति ही प्लतालना (प्रतारणा) है।’’ मैं आश्चर्यचकित था, लामचंद पुनः ‘र’ को ‘ल’ बोलने लगे थे। इस अप्रत्याशित परिवर्तन को देखकर मैं दंग रह गया। वे अब बूढ़े भी दिखने लगे थे। बोले, ‘‘इनसान की इच्छा पूलती (पूर्ति) होना ही स्वल्ग (स्वर्ग) है, औल उसकी इच्छा का पूला (पूरा) न होना नलक (नरक)। स्वल्ग-नल्क मलने (मरने) के बाद नहीं, जीते जी ही मिलता है।’’ मैंने पूछा, ‘‘फिर देशभक्ति क्या है?’’ अरे भैया! जरा सोशल मीडिया पर आएँ, लाइक-डिस्लाइक (like-dislike) ठोकें, समर्थन, विरोध करें, थोड़ा गालीगुप्तार करें, आंदोलन का हिस्सा बनें, अपने राष्ट्रप्रेम का सबूत दें। तब देशभक्त कहलाएँगे।

Enjoying reading this book?
PaperBack ₹200
HardBack ₹400
Print Books
Digital Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Prabhat Prakashan
  • Pages: 200
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9789352669820
  • Category: Literature
  • Related Category: Literature
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Madhuchhand by Usha Shrivastav
Mahamana Pt Madan Mohan Malviya by Manju 'Mann'
Nazarband Loktantra by L.K. Advani
Kabeer Dohawali by Neelotpal
Book of Happiness by Jagdish Gupta
Ganga Prasad Vimal ki Lokpriya Kahaniyan by Ganga Prasad Vimal
Books from this publisher
Related Books
Vinashparva Prashant Pole
Gandhi Aur Islam Abdulnabi Alshoala
Puratan Vigyan Pramod Bhargava
Meharabaan Kaise-kaise Virendra Jain
Morh Pramod Jain
Kaliyug Sarvashreshtha Hai Mahayogi Swami Buddha Puri
Related Books
Bookshelves
Stay Connected