logo
Home Nonfiction Biographies & Memoirs Kagaji Hai Pairahan
product-img
Kagaji Hai Pairahan
Enjoying reading this book?

Kagaji Hai Pairahan

by Ismat Chughtai
4.2
4.2 out of 5

publisher
Creators
Publisher Rajkamal Prakashan
Synopsis

Enjoying reading this book?
HardBack ₹695
PaperBack ₹299
Print Books
About the author इस्मत चुग़ताई (जन्म: 21 अगस्त 1915-निधन: 24 अक्टूबर 1991) उर्दू साहित्य की सर्वाधिक विवादास्पद और सर्वप्रमुख लेखिका थीं, उन्हें ‘इस्मत आपा’ के नाम से भी जाना जाता है। उन्होंने आज से करीब 70 साल पहले पुरुष प्रधान समाज में स्त्रियों के मुद्दों को स्त्रियों के नजरिए से कहीं चुटीले और कहीं संजीदा ढंग से पेश करने का जोखिम उठाया। उनके अफसानों में औरत अपने अस्तित्व की लड़ाई से जुड़े मुद्दे उठाती है। साहित्य तथा समाज में चल रहे स्त्री विमर्श को उन्होंने आज से 70 साल पहले ही प्रमुखता दी थी। इससे पता चलता है कि उनकी सोच अपने समय से कितनी आगे थी। उन्होंने अपनी कहानियों में स्त्री चरित्रों को बेहद संजीदगी से उभारा और इसी कारण उनके पात्र जिंदगी के बेहद करीब नजर आते हैं।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 266
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9788171789672
  • Category: Biographies & Memoirs
  • Related Category: Biographies
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Prayagraj Aur Kumbh by Kumar Nirmalendu
Right And Duties by Shruti Rani
Pahala Raja by Jagdish Chandra Mathur
Ila by Ila Dalmiya
Hindi Kahani Ka Itihas-1 (1900-1950) by Gopal Ray
Dhruvswamini by Jaishankar Prasad
Books from this publisher
Related Books
FASADI Ismat Chughtai
Adhi Aurat Adha Khwab Ismat Chughtai
Lihaaf Ismat Chughtai
Tedhi Lakeer Ismat Chughtai
Pratinidhi Kahaniyan : Ismat Chugtai Ismat Chughtai
Shaadi Ismat Chughtai
Related Books
Bookshelves
Stay Connected