logo
Home Anthology Anthology Gopan Aur Ayan
product-img
Gopan Aur Ayan
Enjoying reading this book?

Gopan Aur Ayan

by Sitanshu Yashaschandra
4.2
4.2 out of 5

publisher
Creators
Author Sitanshu Yashaschandra
Publisher Rajkamal Prakashan
Synopsis गुजराती आदि भारतीय भाषाएँ एक विस्तृत सेमिओटिक नेटवर्क अर्थात् संकेतन-अनुबन्ध-व्यवस्था का अन्य-समतुल्य हिस्सा है। मूल बात ये है कि विशेष को मिटाये बिना सामान्य अथवा साधारण की रचना करने की, और तुल्यमूल्य संकेतकों से बुनी हुई एक संकेतन-व्यवस्था रचने की जो भारतीय क्षमता है, उस का जतन होता रहे। राष्ट्रीय या अन्तरराष्ट्रीय राज्यसत्ता, उपभोक्तावाद को बढावा देने वाली, सम्मोहक वाग्मिता के छल पर टिकी हुई धनसत्ता एवं आत्ममुग्ध, असहिष्णु विविध विचारसरणियाँ/आइडियोलोजीज़ की तन्त्रात्मक सत्ता, आदि परिबलों से शासित होने से भारतीय क्षमता को बचाते हुए, उस का संवर्धन होता रहे। गुजराती में से मेरे लेखों के हिन्दी अनुवाद करने का काम सरल तो था नहीं। गुजराती साहित्य की अपनी निरीक्षण परम्परा तथा सृजनात्मक लेखन की धारा बड़ी लम्बी है और उसी में से मेरी साहित्य तत्त्व-मीमांसा एवं कृतिनिष्ठ तथा तुलनात्मक आलोचना की परिभाषा निपजी है। उसी में मेरी सोच प्रतिष्ठित (एम्बेडेड) है। भारतीय साहित्य के गुजराती विवर्तों को ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य में जाने बिना मेरे लेखन का सही अनुवाद करना सम्भव नहीं है, मैं जानता हूँ। इसीलिये, इन लेखों का हिन्दी अनुवाद टिकाऊ स्नेह और बड़े कौशल्य से जिन्होंने किया है, उन अनुवादक सहृदयों का मैं गहरा ऋणी हूँ। ये पुस्तक पढऩे वाले हिन्दीभाषी सहृदय पाठकों का सविनय धन्यवाद, जिनकी दृष्टि का जल मिलने से ही तो यह पन्ने पल्लवित होंगे। —सितांशु यशश्चन्द्र (प्रस्तावना से) ''हमारी परम्परा में गद्य को कवियों का निकष माना गया है। रज़ा पुस्तक माला के अन्तर्गत हम इधर सक्रिय भारतीय कवियों के गद्य के अनुवाद की एक सीरीज़ प्रस्तुत कर रहे हैं। इस सीरीज़ में बाङ्ला के मूर्धन्य कवि शंख घोष के गद्य का संचयन दो खण्डों में प्रकाशित हो चुका है। अब गुजराती कवि सितांशु यशश्चन्द्र के गद्य का हिन्दी अनुवाद दो जि़ल्दों में पेश है। पाठक पायेंगे कि सितांशु के कवि-चिन्तन का वितान गद्य में कितना व्यापक है—उसमें परम्परा, आधुनिकता, साहित्य के कई पक्षों से लेकर कुछ स्थानीयताओं पर कुशाग्रता और ताज़ेपन से सोचा गया है। हमें भरोसा है कि यह गद्य हिन्दी की अपनी आलोचना में कुछ नया जोड़ेगा।" —अशोक वाजपेयी

Enjoying reading this book?
PaperBack ₹350
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 299
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9789388753173
  • Category: Anthology
  • Related Category: Anthology
Share this book
Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Padari Mafi Mango by
Machhali Mari Hui by Rajkamal Chaudhari
Bhartiya Rajniti Par Ek Drishti by Kishan Patnayak
Woh Aadmi by Fazal Tabish
Tinka Tinka Tihar (Hindi) by Vimlaa Mehra, Vartika Nanda
Sitaron Ki Raten by Shobha De
Books from this publisher
Related Books
Aalap Mein Girah Geet Chaturvedi
Nyoonatam Main Geet Chaturvedi
Hindu Hindutva Hindustan Sudhir Chandra
Thackeray Bhaau Daval Kulkarni
Goongi Rulaai Ka Chorus Ranendra
Khanzada Bhagwandas Morwal
Related Books
Bookshelves
Stay Connected