logo
Home Literature Drama Dushman urf sainya Magan Pahalwani Mein
product-img product-img
Dushman urf sainya Magan Pahalwani Mein
Enjoying reading this book?

Dushman urf sainya Magan Pahalwani Mein

by Daya Prakash Sinha
4.6
4.6 out of 5

publisher
Creators
Author Daya Prakash Sinha
Publisher Vani Prakashan
Synopsis नाट्य-लेखन के लिए ‘केन्द्रीय संगीत अकादेमी अवार्ड’ से सम्मानित लब्धप्रतिष्ठ नाटककार दया प्रकाश सिन्हा की लेखनी से प्रसूत ‘दुस्मन-उर्फ़ सैंया मगन पहलवानी में’ एक स्लैप-स्टिक कॉमेडी (अतिरंजित हास्य नाटक) है। इस श्रेणी के नाटकों का उद्देश्य अतिरंजित अभिनय, संवादों, आंगिक चेष्टाओं, विनोदपूर्ण स्थितियों आदि के माध्यम से ऐसे हास्यरस का सृजन करना है, जिसके द्वारा दर्शक खुलकर हँसें, और उनके ठहाकों और अट्टहास से प्रेक्षागृह गूँज उठे। अपने उद्देश्य में यह नाटक पूर्णतः सफल सिद्ध हुआ है। उत्तर प्रदेश सरकार और भारत सरकार के संगीत नाटक प्रभाग द्वारा मंचस्थ इसकी सैकड़ों प्रस्तुतियों ने सहस्रों दर्शकों का मनोरंजन किया है। एक दृश्यबन्ध (सेट) पर अभिनेय एवं पाँच-पात्रीय (चार पुरुष और एक स्त्री पात्र) नाटक ‘दुस्मन-उर्फ़ सैंया मगन पहलवानी में’ सहजता से मंचनीय है, और हिन्दी में मंचनीय नाटकों के अभाव की पूर्ति करता है। ‘दुस्मन-उर्फ़ सैंया मगन पहलवानी में’ नाटक की सैकड़ों प्रस्तुतियाँ भारत सरकार के गीत एवं नाट्य प्रभाग एवं उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मंचस्थ हो चुकी हैं।

Enjoying reading this book?
PaperBack ₹150
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 64
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9789350723906
  • Category: Drama
  • Related Category: Drama & Theatre
Share this book


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Kavita 93 by Prayag Shukla
Samkaleen Vaishvik Patrakarita Mein Akhbar by Pranjal Dhar
Kathopakathan by Arun Kamal
Gouraiyon Ko To Gussa Nahin Aata by Damodar Kharse
Trishita by Kamlini Kaul
Shashvatoyam by Prabhakar Shrotriya
Books from this publisher
Related Books
Katha Ek Kans Ki Daya Prakash Sinha
Itihas Daya Prakash Sinha
Katha Ek Kans Ki Daya Prakash Sinha
Saadar Aapka Daya Prakash Sinha
Oh America ! Daya Prakash Sinha
Seeriyaa Daya Prakash Sinha
Related Books
Bookshelves
Stay Connected