logo
Home Literature Short Stories Dus Pratinidhi Kahaniyan : Hari Shankar Parsai
product-img
Dus Pratinidhi Kahaniyan : Hari Shankar Parsai
Enjoying reading this book?

Dus Pratinidhi Kahaniyan : Hari Shankar Parsai

by Harishankar Parsai
4.2
4.2 out of 5
Creators
Publisher Kitabghar Prakashan
Synopsis

Enjoying reading this book?
Binding: HardBack
About the author हरिशंकर परसाई (22 अगस्त, 1924 - 10 अगस्त, 1995) हिंदी के प्रसिद्ध लेखक और व्यंगकार थे। उनका जन्म जमानी, होशंगाबाद, मध्य प्रदेश में हुआ था। वे हिंदी के पहले रचनाकार हैं जिन्होंने व्यंग्य को विधा का दर्जा दिलाया और उसे हल्के–फुल्के मनोरंजन की परंपरागत परिधि से उबारकर समाज के व्यापक प्रश्नों से जोड़ा। उनकी व्यंग्य रचनाएँ हमारे मन में गुदगुदी ही पैदा नहीं करतीं बल्कि हमें उन सामाजिक वास्तविकताओं के आमने–सामने खड़ा करती है, जिनसे किसी भी व्यक्ति का अलग रह पाना लगभग असंभव है। लगातार खोखली होती जा रही हमारी सामाजिक और राजनैतिक व्यवस्था में पिसते मध्यमवर्गीय मन की सच्चाइयों को उन्होंने बहुत ही निकटता से पकड़ा है। सामाजिक पाखंड और रूढ़िवादी जीवन–मूल्यों की खिल्ली उड़ाते हुए उन्होंने सदैव विवेक और विज्ञान–सम्मत दृष्टि को सकारात्मक रूप में प्रस्तुत किया है। उनकी भाषा–शैली में खास किस्म का अपनापा है, जिससे पाठक यह महसूस करता है कि लेखक उसके सामने ही बैठा है ।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Kitabghar Prakashan
  • Pages:
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789381467893
  • Category: Short Stories
  • Related Category: Novella
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
main bhee aurat hoon by Anusuya tyagi
Kavi Ne Kaha : Jitendra Shrivastava by Jitendera Srivastav
Dus Pratinidhi Kahaniyan : Jainendra Kumar by Jainendra Kumar
Atra Kushlam Tatrastu by Dr. Vijay Mohan Sharma
Ek Aur Lal Tikon by Narendra Kohli
Mere Saakshatkaar : Khushwant Singh by Khushwant Singh
Books from this publisher
Related Books
Aur Ant Mein Harishankar Parsai
PREMCHAND KE PHATE JUTE Harishankar parsai
Jane Pahachane Log Harishankar Parsai
PREMCHAND KE PHATE JUTE HARISHANKAR PARSAI
JWALA AUR JAL HARISHANKAR PARSAI
Dus Pratinidhi Kahaniyan : Hari shankar Parsai Harishankar Parsai
Related Books
Bookshelves
Stay Connected