logo
Home Literature Poetry Asambhav Saransh
product-img
Asambhav Saransh
Enjoying reading this book?

Asambhav Saransh

by Ashutosh Dubey
4.4
4.4 out of 5

publisher
Creators
Author Ashutosh Dubey
Publisher
Synopsis ये कविताएँ वे विस्मृत गुप्त अक्षर हैं जो नये द्वार खोलते हैं और इनकी ध्वनि की काया में अगणित आत्माएँ बसती हैं । इनमें से अनेक गहरी व्याख्या की माँग करती हैं । अलग-अलग और एक साथ इनमें स्वरबाहुल्य और सिम्फ़नीय तत्व है जो सभी-कुछ को देखता, महसूसता और बखानता चलता है । भारतीय परंपरा, संस्कृति और जीवन से प्रेरित ये कविताएँ एक वैश्विक दृष्टि लेकर चलती हैं जिससे ब्रह्मांड की गुत्थियों से लेकर भूख, गरीबी, अन्याय, गैर-बराबरी, पर्यावरण, अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार, सामूहिक आकांक्षाएँ, बच्चे, स्त्रियाँ आदि अछूत नहीं रहे हैं हिंदी में इस समय पचास वर्ष की आयु के आसपास और उससे छोटे कई समर्थ और प्रखर कवि हैं जिन्होंनें अपने दूसरे अनेक समवयस्कों और वरिष्ठों के लिए कवि-कर्म कठिन बना डाला है और उनमें से कुछ को तो अप्रासंगिक और निस्तेज-सा कर दिया है । आशुतोष दुबे उन्हीं सक्षम कवियों में हैं जो अपनी कृतित्व में जीवन सारांश को चरितार्थ कर रहे हैं लेकिन उनकी उपलब्धियों को सारांश-रूप में बखान पाना असंभव-सा बनाते जा रहे हैं ।

Enjoying reading this book?
HardBack ₹100
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher:
  • Pages: 120
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9788170559740
  • Category: Poetry
  • Related Category: Literature
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Study Guide for B.Arch 2018 by PK Mishra
HTET Haryana Shikshak Patrata Pariksha Level-II (VI-VIII) Samajik Adhyayn by Arihant Experts
Genealogy and Biographical Notes of John Parker of Lexington and His Descendants: Showing His Earlier Ancestry in America From Dea. Thomas Parker of Reading, Mass. From 1635 to 1893 by Theodore Parker
Bumper Colouring Book - 1 by Dreamland Publications
BHUGOL Civil Seva Mukhya Pariksha Laghu Prashnotri Avam Adhaywar Hal Prash-Patr by Pramod Sharma
The Religious History of Munda and Oraon Tribes by Diwakar Minz
Books from this publisher
Related Books
PREM GILHARI DIL AKHROT BABUSHA KOHLI
ANSU Jaishankar Prasad
Shramana Shabari Ke Ram Mahakavi Avadhesh
Arnav Poonam Anand
Ab Main Saans Le Raha Hoon Asangghosh
Salandi Shankhcheel Ka Gaon Manorama Biswal Mohapatra
Related Books
Bookshelves
Stay Connected