logo
Home Literature Poetry Vujood
product-img product-img
Vujood
Enjoying reading this book?

Vujood

by Rajesh Reddy
4
4 out of 5

publisher
Creators
Author Rajesh Reddy
Publisher Vani Prakashan
Synopsis आज के ग़ज़लकारों में राजेश रेड्डी का नाम सबसे अलग पड़ता है क्योंकि ग़ज़लें देखनी पड़ती हैं। ग़ज़लों और ग़ज़लकारों की जैसी जरख़ेज़ फ़सल लहलहा रही है, उसमें हम किसी ग़ज़लकार के बारे में इससे बड़ी बात क्या कह सकते हैं। ‘वजूद’ उनकी ग़ज़लों का तीसरा संग्रह है। इस अन्तराल में राजेश पहले से ज़्यादा आत्मविश्वासी हुए हैं और शब्दों और परिस्थितियों के अन्तःसम्बन्धों को पकड़ते वक़्त उन्हें थोड़ी भी हिचक नहीं होती है। राजेश बला के ख़ामोश ग़ज़लगो हैं। वे बमुश्किल ही मुँह खोलते हैं। जितना और जो भी कहना होता है, ग़ज़ल को ही सौंप देते हैं।

Enjoying reading this book?
PaperBack ₹125
HardBack ₹250
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 134
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9789352291779
  • Category: Poetry
  • Related Category: Literature
Share this book


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Brand Modi Ka Tilism Badlav Ki Banagi by Dharmendra Kumar Singh
Madaripur Juction by Balendu Dwivedi
Kamsootra Se 'Kamsootra' Tak : Adhunik Bharat Mein Sexuality Ke Sarokar by Abhay Kumar Dubey
Aese Bhee Ham Kya Aese Bhee Tum Kya by Nagarjun
Pachrang Chola Pahar Sakhi Ri by Madhav Hada
Gantantra Ka Ganit by Narendra Kohli
Books from this publisher
Related Books
Ishq Musaafir Tanveer Ghazi
Azadee Ke Pahale Azadee Ke Baad Inder Bahadur Khare
Sham Hone Wali Hai Shahryar
Yah Aakanksha Samay Nahin Gagan Gill
Jalte Hue Van Ka Vasant Dushyant Kumar
Kirishnadharma Main Prabha Khetan
Related Books
Bookshelves
Stay Connected