logo
Home Self Help Self Help Vishwas Ka Jadu
product-img product-imgproduct-img
Vishwas Ka Jadu
Enjoying reading this book?

Vishwas Ka Jadu

by Joseph Murphy
4.4
4.4 out of 5
Creators
Author Joseph Murphy
Publisher Prabhat Prakashan
Synopsis यह है वह नियम—‘मैं वह हूँ जैसा मैं अपने विषय में महसूस करता हूँ।’ ‘मैं’ की भावना को हर दिन इस कथन के साथ बदलने का अभ्यास करें—‘मैं आत्मा हूँ। मैं ईश्वर रूपी आत्मा के रूप में सोचता, महसूस करता, और जीता हूँ।’ (आपके भीतर का दूसरा मैं प्रजाति मन के रूप में सोचता, महसूस करता और कार्य करता है।) जब आप ऐसा लगातार करते हैं, तब आप स्वयं को ईश्वर के साथ एकाकार महसूस करते हैं। जिस प्रकार सूर्य धरती को अंधकार और निराशा से मुक्ति दिलाता है, उसी प्रकार आपके भीतर ईश्वर की उपस्थिति का अहसास आपके अंदर के उस व्यक्ति को बाहर लाएगा, जैसा आप बनना चाहते हैं—आनंदमय, उज्ज्वल, शांतिपूर्ण, संपन्न और सफल व्यक्ति, जिसका विवेक परमात्मा से प्रकाशित है। अपने आत्मविश्वास, जिजीविषा और स्वप्रेरणा को जाग्रत् करनेवाली पठनीय प्रेरक पुस्तक।

Enjoying reading this book?
HardBack ₹250
Print Books
Digital Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Prabhat Prakashan
  • Pages: 120
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789353221591
  • Category: Self Help
  • Related Category: Self Help
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Kalpana Chawla : Sitaron Se Aage by Anil Padmanabhan
Jeevan ko Safal Nahin, Sarthak Banayen by Rajesh Maheshwari
Mangal Pandey by Harikrishna Devsare
Madhya Pradesh Madhyamik Shikshak Patrata Pariksha-2018 Ganit by C.P. Gupta
Parivartan Ki Ore by Anant Vijay
Ek Kahani Adhoori Si by Vijaya Goyal
Books from this publisher
Related Books
Cancer Ki Raat, Asha Ki Subah Dr. Meenu Walia
Jo Chahen Vo Kaise Payen Esther;Jerry Hicks
Har Pal Sukha Aur Khushi Payen Stephen Knapp
Har Pal Sukha Aur Khushi Payen Stephen Knapp
Aapka Adbhut Srijan Dr. Himanshu Bavishi
Saal Mein 1000 Productive Ghante Kaise Badhayen Sanjay Kumar Agarwal
Related Books
Bookshelves
Stay Connected