logo
Home Nonfiction Biographies & Memoirs Ve Andhere Din
product-img product-img
Ve Andhere Din
Enjoying reading this book?

Ve Andhere Din

by TASLIMA NASRIN
4.3
4.3 out of 5

publisher
Creators
Publisher Vani Prakashan
Translator Sushil Gupta
Synopsis ‘अंधेरे वे दिन....’ तसलीमा के उन अँधेरे दिनों की कथा बयान करते हैं जब उन्हें दीर्घ दो महीने, घुप्प अँधियारे में आत्मगोपन करके रहना पड़ा, वह भी अपने देश में। यह उपन्यास मूलतः तथ्यपरक हैं। बांग्लादेश में प्रकाशित ‘आजकेर कागज’ ‘भोरेर कागज’ ‘इत्तफाक’ संवाद’ ‘बांग्ला बाजार’ ‘इन्क़लाब’ ‘दिनकाल’ ‘संग्राम’ वगैरह दैनिक अखबारों से उन दिनों की ख़बरों से ली गई हैं।

Enjoying reading this book?
PaperBack ₹295
HardBack ₹500
Print Books
About the author तसलीमा नसरीन सुख्यात लेखक और मानवतावादी विचारक हैं। अपने विचारों और लेखन के लिए उन्हें अकसर फ़तवों का सामना करना पड़ा। विवादास्पद उपन्यास ‘लज्जा’ पर उन्हें उनके देश से निष्कासित कर दिया गया जहाँ वे 1994 से नहीं गईं। भारत समेत कई देशों से उन्हें विभिन्न सम्मानित पुरस्कारों और मानद उपाधियों से विभूषित किया जा चुका है। दुनिया की लगभग तीस भाषाओं में उनकी रचनाओं का अनुवाद हो चुका है।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 470
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9789352291755
  • Category: Biographies & Memoirs
  • Related Category: Biographies
Share this book


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Pani Ki Kahani by Yashschandra Lokesh
Vishwa Mithak Saritsagar by Ramesh Kuntal Megh
Who, Jo Ghati Ne Kaha by Punnisingh
Soundarya Ka Tatparya by Prabhakar Shrotriya
Ramprasd 'Bismil' Rachnavali by Dinesh Sharma
Ardhshati ka Bharatiya Kavya Chintan Vipaksh Aur Paksh by Rammurti Tripathi
Books from this publisher
Related Books
Besharam : Lajja Upanyas Ki Uttar-Katha Taslima Nasrin
Nishiddh Taslima Nasrin
Nishiddh Taslima Nasrin
Mujhe Dena Aur Prem Taslima Nasrin
Aurat Ka Koi Desh Nahin TASLIMA NASRIN
Aurat Ke Haq Mein Taslima Nasrin
Related Books
Bookshelves
Stay Connected