logo
Home Literature Drama Suman Aur Sana
product-img product-img
Suman Aur Sana
Enjoying reading this book?

Suman Aur Sana

by Nadira Zaheer Babbar
4.2
4.2 out of 5

publisher
Creators
Author Nadira Zaheer Babbar
Publisher Vani Prakashan
Synopsis सांप्रदायिकता नफ़रत कि वजह से होने वाले दंगे हमरे देश में कोई नई बात नही। इन दंगों कि वजह से मिले मानसिक आघात के नियमितता के कारण ही शायद हमारा समाज सब मिलाकर धीरे-धीरे इन सब घटनाओं की तरफ से संवेदनहीन-सा होता जा रहा है। ‘सुमन और सना’ एक कोशिश है इस मुद्दे से जुड़े इंसानियत कि तड़प और तकलीफ के पहल पर ध्यान केन्द्रित करने की। नाटक दंगे के शिकार उन लोगों के बारे में है, जिन पर आक्रमण हुआ और जिन लोगों को अपने घरों को छोड़कर भग्न पड़ा। यह बिना किसी राजनीतिक उचितता और अनुचितता से संबद्ध हुए तकलीफ़ों को जीवंत करता है

Enjoying reading this book?
PaperBack ₹95
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 62
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9788181438256
  • Category: Drama
  • Related Category: Drama & Theatre
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Rajniti Ki Kitab by
Ram Path Ke Mandir by Sitaram Gurumurty
Ganit Ka Pehla Kadam by Kishan Mohan
Bazar Ke Beech: Bazar Ke Khilaph by Prabha Khetan
Yatharath Ki Dharti Aur Sapna by Rajendra Ravi
Hindi Upanyas : Naya Path by Hemant Kukreti
Books from this publisher
Related Books
Lallan Miss Rama Pandey
Kamukata Ka Utsav Jayanti Rangnathan
Najma Dhirendra Singh Jafa
Do Anday Dhirendra Singh Jafa
Pensioner Dhirendra Singh Jafa
Shivnarain Dhirendra Singh Jafa
Related Books
Bookshelves
Stay Connected