logo
Home Literature Classics & Literary Shesh Prashn
product-img
Shesh Prashn
Enjoying reading this book?

Shesh Prashn

by Sharatchand Chatopadhyay
4.3
4.3 out of 5

publisher
Creators
Author Sharatchand Chatopadhyay
Publisher Rajpal
Synopsis बीसिवीं सदी के प्रारम्भिक दौर में बांगला समाज में जहाँ नारी को कुछ बोलने की आज़ादी नहीं थी, उस परिवेश में जब कमल अलग-अलग मुद्दों पर अपने पति से प्रश्न करती है तो । उसे यह फूटी आँख नहीं भाता। स्वतन्त्र विचार वाली । मुँहफट कमल का हर प्रश्न पुरुष के नारी के ऊपर स्वामित्व की नींव पर चोट पहुँचाता है। जैसे-जैसे कमल के प्रश्न बढ़ते हैं, उसके और उसके पति शिवनाथ, जिससे वह पूरे रीति-रिवाज़ से ब्याही भी नहीं है, के बीच टकराव और तनाव बढ़ता जाता है। और कमल अपने अलग रास्ते पर निकल जाती है…1931 में लिखा शरतचन्द्र का यह उपन्यास आज भी उतना ही प्रासंगिक है, क्योंकि नारी जिन प्रश्नों के उत्तर तब तलाश रही थी वे आज भी अनुत्तरित हैं।

Enjoying reading this book?
PaperBack ₹275
Print Books
Digital Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajpal
  • Pages: 292
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9788174831774
  • Category: Classics & Literary
  • Related Category: Classics
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Mann ke Manjeere by Rachna  Bhola 'Yamini'
Nyay Ka Swarup by Amartya Sen
Bhartiya Sanskriti - Kuch Vichar by Sarvapalli Radhakrishnan
Freud Manovishleshan by Sigmond Freud
Jo Kaha Nahin Gaya by Kusum Ansal
Dalit Sant by Rajendra Mohan Bhatnagar
Books from this publisher
Related Books
Agni Astra Roberto Arlt
Virakt Amlendu Tewari
Jungle Ke Phool Rajendra Awasthi
Jungle Ke Phool Rajendra Awasthi
Devdas Sharatchand Chatopadhyay
Gora Ravindranath Tagore
Related Books
Bookshelves
Stay Connected