logo
Home Reference Travel & Tourism Sare Rah Chalte Chalte
product-img product-img
Sare Rah Chalte Chalte
Enjoying reading this book?

Sare Rah Chalte Chalte

by Kusum Ansal
4.1
4.1 out of 5

publisher
Creators
Author Kusum Ansal
Publisher Rajpal
Synopsis ‘‘मेरे लिए यात्रा, मेरे भीतर अनवरत चलती एक तलाश का जैसे प्रत्युत्तर है। न जाने क्यों सुदूर देश की धरती, उसकी सुनी-अनसुनी कहानियाँ, वहाँ के निवासियों के प्रति एक अपरिभाषित उत्सुकता मेरे मन में रहस्य का एक तन्तुजाल बुनती है जो मेरी चेतना पर छा कर मेरे अस्तित्व को बेचैनी से भर देता है। बहुधा कहा जाता है कि प्रसन्नता कहीं बाहर नहीं प्राप्त होती, उसका स्रोत मनुष्य के भीतर है, मनुष्य के हृदय में है, फिर भी हम प्रसन्नता को बाहर खोजते हैं - सांसारिक वस्तुओं में या अपने से दूसरे के अस्तित्व में। सबके लिए प्रसन्नता के अर्थ भिन्न होते हैं, उसी के अनुसार हर कोई अपने जीवन में अपनी इच्छाओं और रुचियों को ढालता चला जाता है, शायद इसीलिए अनुसंधान के लिए यात्रा या यात्रा के मध्य अनुसंधान मेरा आकर्षण बन गया है।’’

Enjoying reading this book?
HardBack ₹325
Print Books
Digital Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajpal
  • Pages: 152
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789350642528
  • Category: Travel & Tourism
  • Related Category: Photography
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Neeti Kathayen by Anand Kumar
Vinaash Ki Jadh by Ramprakash Sheel
Magnamaati by Pratibha Rai
Geetanjali by Ravindranath Tagore
Dalit Sahitya: Ek Moolyankan by Chaman Lal
Godan by Premchand
Books from this publisher
Related Books
Jo Kaha Nahin Gaya Kusum Ansal
Tapsi Kusum Ansal
Meri Drishti To Meri Hai Kusum Ansal
Kusum Ansal ki Lokpriya Kahaniyan Kusum Ansal
Kusum Ansal ki Lokpriya Kahaniyan Kusum Ansal
Pankh Ek Bhent Kusum Ansal
Related Books
Bookshelves
Stay Connected