logo
Home Literature Poetry Saare Sukhan Humare
product-img
Saare Sukhan Humare
Enjoying reading this book?

Saare Sukhan Humare

by Faiz Ahmed Faiz
4.3
4.3 out of 5

publisher
Creators
Publisher Rajkamal Prakashan
Synopsis फै़ज़ अहमद फ़ैज़ उर्दू शायरी के एक ऐसे अजीमुश्शान शायर हैं जिन्होंने अपनी शायरी को अपने लहू की आग में तपाकर अवाम के दिलो-दिमाग़ तक ले गए और कुछ ऐसे अन्दाज़ में कि वह दुनिया के तमाम मजलूमों की आवाज़ बन गई। उनकी शायरी की ख़ास पहचान है - रोमानी तेवर में खालिस इंक़लाबी बात! यही कारण है कि ग़ालिब और इक़बाल के बाद जितनी शोहरत फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ को मिली उतनी शायद किसी अन्य शायर को नहीं। फ़ैज़ मूलतः पाकिस्तान के थे किन्तु प्रगतिशील जीवन-दृष्टि के कारण उन्होंने देश की सीमा ही नहीं, भाषा, जाति और धर्म की भी मानवता के आगे कभी परवाह नहीं की। वे भारत में वैसे ही पसन्द किए जाते थे जैसे कि पाकिस्तान में उनकी शायरी मानवीयता, सामाजिकता और राजनीतिक सच्चाइयों का पर्याय है। ‘सारे सुख़न हमारे’ उनकी बेहतरीन शायरी का उर्दू से हिन्दी में किया गया अनुवाद है। इसमें फ़ैज़ की तमाम ग़ज़लों, नज़्मों, गीतों और क़तआत को पहली बार हिन्दी में संकलित किया गया है। इसमें उनका आख़िरी कलाम भी शामिल किया गया है। फ़ैज़ की शायरी की पहचान बस इतनी सी है कि फूलों के रंगो-बू से सराबोर शायरी से अगर आँच भी आ रही हो तो समझिए कि वो फ़ैज़ की शायरी है, फ़ैज़ की ही शायरी है।

Enjoying reading this book?
Binding: PaperBack
About the author फै़ज़ अहमद फ़ैज़ उर्दू शायरी के एक ऐसे अजीमुश्शान शायर हैं जिन्होंने अपनी शायरी को अपने लहू की आग में तपाकर अवाम के दिलो-दिमाग़ तक ले गए और कुछ ऐसे अन्दाज़ में कि वह दुनिया के तमाम मजलूमों की आवाज़ बन गई। उनकी शायरी की ख़ास पहचान है - रोमानी तेवर में खालिस इंक़लाबी बात! यही कारण है कि ग़ालिब और इक़बाल के बाद जितनी शोहरत फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ को मिली उतनी शायद किसी अन्य शायर को नहीं। फ़ैज़ मूलतः पाकिस्तान के थे किन्तु प्रगतिशील जीवन-दृष्टि के कारण उन्होंने देश की सीमा ही नहीं, भाषा, जाति और धर्म की भी मानवता के आगे कभी परवाह नहीं की। वे भारत में वैसे ही पसन्द किए जाते थे जैसे कि पाकिस्तान में उनकी शायरी मानवीयता, सामाजिकता और राजनीतिक सच्चाइयों का पर्याय है।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 398
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9788126717606
  • Category: Poetry
  • Related Category: Literature
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Kaya Sparsh by Dronveer Kohli
Chhattisgarh Mein Muktibodh by Rajendra Mishra
Atmaram by Premchand
Vanchito Ke Kathakar by Soma Vandopadhyay
Jaise Pawan Pani by Pankaj Singh
Madhukar Shah : Bundelkhand Ka Nayak by Govind Namdev
Books from this publisher
Related Books
Mere Dil Mere Musafir Faiz Ahmed Faiz
Aaj Ke Gham Ke Naam Faiz Ahmed Faiz
Aaj Ke Gham Ke Naam Faiz Ahmed Faiz
Saare Sukhan Humare Faiz Ahmed Faiz
Mere Dil Mere Musafir Faiz Ahmed Faiz
Pratinidhi Kavitayen : Faiz Ahmed Faiz Faiz Ahmed Faiz
Related Books
Bookshelves
Stay Connected