logo
Home Literature Poetry Riturain
product-img
Riturain
Enjoying reading this book?

Riturain

by Shirish Kumar Mourya
4.2
4.2 out of 5

publisher
Creators
Author Shirish Kumar Mourya
Publisher Radhakrishna Prakashan
Synopsis जीवन-राग, दुःखानुभव और सम-वेदना की सजल छवियों से फूटता रुलाई का गीत; जो इक्कीसवीं सदी के हमारे आज में भी कील की तरह बिंधा है। किसी ख़ास ऋतु में फूटनेवाली रुलाई का गाना; बिछोह में कूकती आत्मा की आँखों से गिरते अदृश्य आँसू! ये कविताएँ उन्हीं आँसुओं का शब्दानुवाद हैं। शिरीष कुमार मौर्य अपनी स्थानिकता और लोक की परिष्कृत संवेदना के सुपरिचित कवि हैं। ‘रितुरैण’ में उन्होंने गीतात्मक लय में बँधी अपनी गहन संवेदनापरक कविताओं को संकलित किया है। ‘मैं हिन्दी का एक लगभग कवि/लिखता हूँ/हर ऋतु में/हर आस/हर याद...’ जहाँ इस ‘कठकरेजों की दुनिया में/यों ही/बेमतलब हुआ जाता है/मनुष्य होने तक का/हर इन्तजार।’ ये कविताएँ मनुष्य के अपने परिवेश से एकमेक होकर मनुष्यता के आह्वान की कविताएँ हैं और उस दुःख की जो बार-बार हो रहे मनुष्यता के हनन और उपेक्षा से उपजता है। भूखे मनुष्य, ऋतुओं के बदलाव के साथ और-और असहाय होते मनुष्य और पूनो का चाँद जो जवाब नहीं देता ‘सवाल भर उठाता है/लोकतंत्र के रितुरैण में।’ और ‘पूनो की ही रात में राजा हमारा/बजाता है/राग जनसम्मोहिनी।’ ये कविताएँ इस राग के लिए एक सान्‍द्र, शान्‍त चुनौती की तरह खुलती हैं एक-एक कर। कहती हुई कि ‘हत्या के बाद/ज़िम्मेदार व्यक्तियों के चेहरे पर/जो मुस्कान आती है/सब ऋतुओं को उजाड़ जाती है।’ ये उजड़ी हुई उन ऋतुओं की रुलाई की कविताएँ हैं।

Enjoying reading this book?
HardBack ₹395
PaperBack ₹160
Print Books
Digital Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Radhakrishna Prakashan
  • Pages: 158
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9788183619561
  • Category: Poetry
  • Related Category: Literature
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Raks Jaari Hai by Abbas Tabish
Awastha by U. R. Ananthamurthy
Baniya Bahu by Mahashweta Devi
Atak Gayi Nind by Rakesh Mishra
Krishnakali by Gaura pant shivani
Yog Vigyan by Chandra Bhanu Gupta
Books from this publisher
Related Books
Tumhein Pyar Karte Hue : Prem Kavitayen Pawan Karan
Yeh Jo Kaya Ki Maya Hai Priyadarshan
Yeh Jo Kaya Ki Maya Hai Priyadarshan
Dararon Mein Ugi Doob Chitra Desai
Os Ki Thapaki Ashutosh Agnihotri
Kavi Man Jani Man Vandana Tete
Related Books
Bookshelves
Stay Connected