logo
Home Nonfiction Biographies & Memoirs Rasraj : Pandit Jasraj
product-img product-imgproduct-img
Rasraj : Pandit Jasraj
Enjoying reading this book?

Rasraj : Pandit Jasraj

by Sunita Budhiraja
4.2
4.2 out of 5

publisher
Creators
Publisher
Synopsis जसराज के जन्मते ही पिता पंडित मोतीराम ने उन्हें शहद चटाया था। उनके घर में इसे घुट्टी पिलाना कहा जाता है। माँ कृष्णा बाई का कहना था कि सभी बच्चों में से मोतीराम जी ने केवल जसराज को ही शहद चटाया था। बच्चों को माँ की सेवा करने का अच्छा अवसर मिला, क्योंकि वह 1957 तक जीवित रहीं। पिता तो अपने गाने के सिलसिले में आते-जाते रहते थे। गाँव पीली मन्दौरी, जहाँ जसराज का जन्म हुआ हिसार (हरियाणा) से लगभग 70 किलोमीटर दूर है। उस समय वह पंजाब में था। गाँव से स्टेशन लगभग 12किलोमीटर था। एक दिन पंडित मोतीराम कहीं से कार्यक्रम करके गाँव लौटे। चूँकि स्टेशन और गाँव के बीच दूरी बहुत थी, तो ऊँट पर सवार होकर आये थे। साफ़-सुथरे सफ़ेद कपड़े पहने हुए थे। मैदान में छोटे-छोटे बहुत सारे बच्चे खेल रहे थे। एक बच्चे की तरफ़ इशारा करके पंडित मोतीराम ने किसी से पूछा कि भैया ये किसका बच्चा है? तो उन्हें उत्तर मिला कि ये आप ही का बच्चा है। फौरन ऊँट से उतर पड़े और धूल में नहाये जसराज को गोदी में उठा लिया। न अपने सफ़ेद कपड़ों की परवाह की और न ही दो-ढाई वर्ष के जसराज की धूल में सनी पोशाक की ओर देखा। गोदी में उन्हें उठाकर पैदल-पैदल घर आ गये। उसके बाद क्या हुआ,इसकी स्मृति किसी को नहीं है। पंडित जसराज अपने माता-पिता की नौवीं सन्तान हैं।​

Enjoying reading this book?
Binding: HardBack
About the author सुबह उठकर बिना कुछ लिखे हुए सुनीता बुद्धिराजा के दिन की शुरुआत नहीं होती और रात को बिना कुछ पढ़े हुए नींद नहीं आती। किताबों से घिरे हुए कमरे में उठना-बैठना सुनीता को अच्छा लगता है। ज़िन्दगी की किताब का हर पन्ना उन्हें बहुत कुछ सिखाता है लेकिन सीख कर भी सभी कुछ पर भरोसा करना, विश्वास करना, सुनीता की आदत है। जीवन के हर आन्दोलन को महसूस करना भी उनकी आदत है। उनका सारा लेखन इसी भरोसे, विश्वास और महसूसने की नींव पर टिका हुआ है। दिल्ली में जन्मी सुनीता बुद्धिराजा की कविताएँ, लेख, संगीत-चर्चा सभी कुछ इसी आदत का परिणाम हैं। ‘आधी धूप’, ‘अनुत्तर’ और ‘प्रश्न-पांचाली’, सभी ने पाठकों के मन को छुआ है। ‘प्रश्न-पांचाली’ महाभारतीय पात्र द्रौपदी को केन्द्र में रखकर उसी विश्वास की पतली-डोर को पकड़कर लिखा गया कविता-खंड है जिसने नाटककार दिनेश ठाकुर को मंच पर उतारने के लिए बाध्य कर दिया। ‘टीस का सफ़र’ जानी-मानी महिलाओं की निजता के अकेलेपन से उभरी टीस का परिणाम है तो ‘सात सुरों के बीच’ उस्ताद बिस्मिल्लाह खाँ, पं. किशन महाराज, पं. जसराज, मंगलमपल्ली बालमुरली कृष्ण, पं. शिवकुमार शर्मा, पं. बिरजू महाराज तथा पं. हरिप्रसाद चौरसिया के साथ वर्षों की गयी चर्चाओं पर आधारित सुरीली रचना है। पेशे से जनसम्पर्क से जुड़ी सुनीता बुद्धिराजा ‘किंडलवुड कम्युनिकेशंस’ चला रही हैं। प्रस्तुत है उनकी नयी पुस्तक ‘रसराज: पंडित जसराज’ जो संगीत मार्तंड पंडित जसराज की जीवनगाथा पर आधारित है।​
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher:
  • Pages: 534
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789387889583
  • Category: Biographies & Memoirs
  • Related Category: Biographies
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Super Word Search Pack 2 - (4 titles) by Dreamland Publications
Paper Folding Part 2 by Dreamland Publications
AFCAT (Flying technical & ground duty branch) by Arihant Experts
Hamare Lokpriya Geetkar : Dushyant Kumar by
Solved Paper Chhattisgarh PET Pre Engineering Test Hindi by Arihant Experts
Jawahar Navodaya Vidyalaya Class IX 2018 by Arihant Experts
Books from this publisher
Related Books
Rasraj : Pandit Jasraj Sunita Budhiraja
Wah Madiyara Sanp Vijay Bahadur Singh
Dilip Kumar ` Wajood Aur Parchhaien Udaytara Nayar
Dilip Kumar ` Wajood Aur Parchhaien Udaytara Nayar
Nishiddh Taslima Nasrin
Nishiddh Taslima Nasrin
Related Books
Bookshelves
Stay Connected