logo
Home Literature Historical Rajnatni
product-img
Rajnatni
Enjoying reading this book?

Rajnatni

by Geeta Shree
4.3
4.3 out of 5

publisher
Creators
Author Geeta Shree
Publisher Rajpal
Synopsis ‘‘मैं इस उपन्यास को एक बार में ही पढ़ गया। पढ़ते समय लगा कि पढ़ नहीं, देख रहा हूँ। मैं कह सकता हूँ कि मैंने मीनाक्षी और बल्लाल को साकार देखा है। गीताश्री एक ऐसी कथाकार हैं जिन्होंने लोक को साध लिया है - लोक की भाषा, जीवन, लोग, संस्कृति, समाज, गाँव सब उनकी कहानियों में जैसे साँस लेने लगते हैं। लोक की इस समझ के बिना मीनाक्षी की यह कथा कह पाना असम्भव था। पूरी ज़िम्मेदारी से कह सकता हूँ कि लेखिका ने मीनाक्षी के पात्र को मिथिला के लोक से उठाकर सारे विश्व का बना दिया है - उसको अमर कर दिया है।’’ - पंकज सुबीर, सुपरिचित कथाकार और आलोचक राजनटनी मीनाक्षी और बंग राजकुमार बल्लालसेन की प्रणय-गाथा के साथ ही साथ देश के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर कर देने वाली मीनाक्षी की वीरगाथा भी है। एक नटनी जो अपने अद्भुत कला-कौशल और सौंदर्य से राजनटनी बनती है, समय आने पर अपनी सूझ-बूझ और वीरता का परिचय देते हुए मिथिला और उसके साहित्य को बचा लेती है।

Enjoying reading this book?
Paperback ₹225
Print Books
Digital Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajpal
  • Pages: 160
  • Binding: Paperback
  • ISBN: 9789389373448
  • Category: Historical
  • Related Category: History
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Rajpal Pocket Hindi Shabdkosh by Hardev Bahri
Meri Bhav Badha Haro by Rangey Raghav
Dogri Ki Chuni Hui Kahaniyaan by Kamleshwar
Antarashtriya Antariksh Anveshan by Kali Shankar
Drinks & Mocktails by Sanjeev Kapoor
Patjhar by Rangey Raghav
Books from this publisher
Related Books
Meera Ji Suresh Salil
Goli Achary Chatursesn
Agni Astra Roberto Arlt
Havayein Kya Kya Hain Suresh Salil
Wah Ustad Praveen Kumar Jha
Ek Adhura Upanyas Amelie Nothomb
Related Books
Bookshelves
Stay Connected