logo
Home Literature Novel Rag Darbari
product-img
Rag Darbari
Enjoying reading this book?

Rag Darbari

by Shrilal Shukla
4.3
4.3 out of 5

publisher
Creators
Publisher Rajkamal Prakashan
Synopsis राग दरबारी एक ऐसा उपन्यास है जो गाँव की कथा के माध्यम से आधुनिक भारतीय जीवन की मूल्यहीनता को सहजता और निर्ममता से अनावृत्त करता है | शुरू से आखिर तक इतने निस्संग और सोद्देश्य व्यंग्य के साथ लिखा गया हिंदी का शायद यह पहला वृहत उपन्यास है | फिर भी राग दरबारी व्यंग्य-कथा नहीं है | इसका सम्बन्ध एक बड़े नगर से कुछ दूर बसे हुए गाँव की जिंदगी से है, जो इतने वर्षों की प्रगति और विकास के नारों के बावजूद निहित स्वार्थों और अनेक अवांछनीय तत्त्वों के सामने घिसट रही है | यह उसी जिंदगी का दस्तावेज है | 1968 में राग दरबारी का प्रकाशन एक महत्त्वपूर्ण साहित्यिक घटना थी | 1971 में इसे साहित्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया और 1986 में एक दूरदर्शन-धारावाहिक के रूप में इसे लाखों दर्शकों की सराहना प्राप्त हुई | वस्तुतः राग दरबारी हिंदी के कुछ कालजयी उपन्यासों में से एक है |

Enjoying reading this book?
HardBack ₹795
PaperBack ₹350
Print Books
About the author श्रीलाल शुक्ल (जन्म-31 दिसम्बर 1925 - निधन- 28 अक्टूबर 2011) को लखनऊ जनपद के समकालीन कथा-साहित्य में उद्देश्यपूर्ण व्यंग्य लेखन के लिये विख्यात साहित्यकार माने जाते थे। उन्होंने 1947 में इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातक परीक्षा पास की। 1949 में राज्य सिविल सेवासे नौकरी शुरू की। 1983 में भारतीय प्रशासनिक सेवा से निवृत्त हुए। उनका विधिवत लेखन 1954 से शुरू होता है और इसी के साथ हिंदी गद्य का एक गौरवशाली अध्याय आकार लेने लगता है। उनका पहला प्रकाशित उपन्यास 'सूनी घाटी का सूरज' (1957) तथा पहला प्रकाशित व्यंग 'अंगद का पाँव' (1958) है। स्वतंत्रता के बाद के भारत के ग्रामीण जीवन की मूल्यहीनता को परत दर परत उघाड़ने वाले उपन्यास 'राग दरबारी' (1968) के लिये उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उनके इस उपन्यास पर एक दूरदर्शन-धारावाहिक का निर्माण भी हुआ। श्री शुक्ल को भारत सरकार ने 2008 में पद्मभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया है। 10 उपन्यास, 4 कहानी संग्रह, 9 व्यंग्य संग्रह, 2 विनिबंध, 1 आलोचना पुस्तक आदि उनकी कीर्ति को बनाये रखेंगे। उनका पहला उपन्यास सूनी घाटी का सूरज 1957 में प्रकाशित हुआ। उनका सबसे लोकप्रिय उपन्यास राग दरबारी 1968 में छपा। राग दरबारी का पन्द्रह भारतीय भाषाओं के अलावा अंग्रेजी में भी अनुवाद प्रकाशित हुआ। राग विराग श्रीलाल शुक्ल का आखिरी उपन्यास था। उन्होंने हिंदी साहित्य को कुल मिलाकर 25 रचनाएं दीं। इनमें मकान, पहला पड़ाव, अज्ञातवास और विश्रामपुर का संत प्रमुख हैं।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 334
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9788126713882
  • Category: Novel
  • Related Category: Modern & Contemporary
Share this book
Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Hindu Muslim Rishte by Aashutosh Varshney
Kosambi Kalpana Se Yatharth Tak by Bhagwan Singh
Gramsevika by Amarkant
Jeevan Ke Din by Prabhat
Yugantar Ke Phool by Kumar Mithilesh Prasad Singh
Bharat Se Payar by R.M. Lala
Books from this publisher
Related Books
Mere Saakshaatkaar : Shrilal Shukla Shrilal Shukla
Dus Pratinidhi Kahaniyan : Shrilal Shukla Shrilal Shukla
Makaan Shrilal Shukla
Shrilal Shukla Ki Lokpriya Kahaniyan Shrilal Shukla
Shrilal Shukla Ki Lokpriya Kahaniyan Shrilal Shukla
Aao Baith Len Kuchh Der Shrilal Shukla
Related Books
Bookshelves
Stay Connected