logo
Home Literature Novel Prasad Ke Natakon Ka Shastriya Adhyayan
product-img
Prasad Ke Natakon Ka Shastriya Adhyayan
Enjoying reading this book?

Prasad Ke Natakon Ka Shastriya Adhyayan

by Jagannath Prasad Sharma
4.6
4.6 out of 5

publisher
Creators
Author Jagannath Prasad Sharma
Publisher
Synopsis प्रसाद का आगमन नाट्य रचना में व्याप्त गतिरोध को समाप्त करने वाले युग-विधायक व्यक्ति के रूप में हुआ। उन्होंने एक प्रवर्त्तक के रूप में कविता, नाटक तथा निबंध आदि सभी क्षेत्रों में युग का प्रतिनिधित्व किया। डॉ. गुलाबराय का कहना है, ‘प्रसाद जी स्वयं एक युग थे।’ उन्होंने हिन्दी नाटकों में मौलिक क्रांति की। उनके नाटकों को पढ़कर लोग जितेन्द्र लाल के नाटकों को भूल गये। वर्तमान जगत के संघर्ष और कोलाहलमय जीवन से ऊबा हुआ उनका हृदयस्थ कवि उन्हें स्वर्णिम आभा से दीप्त दूरस्थ अतीत की ओर ले गया। उन्होंने अतीत के इतिवृत्त में भावना का मधु और दार्शनिकता का रसायन घोलकर समाज को एक ऐसा पौष्टिक अवलेह दिया जो ह्रास की मनोवृत्ति को दूर कर उसमें एक नई सांस्कृतिक चेतना का संचार कर सके। उनके नाटकों में द्विजेन्द्रलाल राय की सी ऐतिहासिकता और रवि बाबू की-सी दार्शनिकतापूर्ण भावुकता के दर्शन होते हैं।

Enjoying reading this book?
HardBack ₹295
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher:
  • Pages: 224
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9788170555209
  • Category: Novel
  • Related Category: Modern & Contemporary
Share this book


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
My Pretty Board Books - Colours & Shapes by Dreamland Publications
10. Be Good Stories - Your Sportingly by Dreamland Publications
Jeypore Portfolio of Architectural Details: Volume 1 (Part I- Copings and Plinths, Part II- Pillars-Caps and Bases) by Colonel S. S. Jacob
15 Practice Sets CTET Samajik Addhyyan/Vigyan shikshak ke liye Paper-II Class VI-VIII by Arihant Experts
UTET Success Master Paper-II Maths & Science for Class VI-VIII by Arihant Experts
MHT CET Physics Prep Guide by MK Dikshit
Books from this publisher
Related Books
Dakshayani Aruna Mukim
Wah Ladki Sushila Takbhore
Baanjh Sapooti Virendra Sarang
Miss Cow : A Love Story Sudhish Pachauri
Krantijoti Savtiri Phule Jiya Lal Arya
Sursatiya Mahashweta Devi
Related Books
Bookshelves
Stay Connected