logo
Home Nonfiction Biographies & Memoirs Prarthna-Pravachan : Vols. 1-2
product-img
Prarthna-Pravachan : Vols. 1-2
Enjoying reading this book?

Prarthna-Pravachan : Vols. 1-2

by Mahatma Gandhi
4.2
4.2 out of 5

publisher
Creators
Publisher Rajkamal prakashan, raza foundation
Synopsis

Enjoying reading this book?
Hardback ₹1600
Paperback ₹699
Print Books
About the author मोहनदास करमचन्द गांधी भारत एवं भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन के एक प्रमुख राजनैतिक एवं आध्यात्मिक नेता थे। विश्व-भर में लोग उन्हें महात्मा गांधी के नाम से जानते हैं। गांधी जी ने अहिंसक सविनय अवज्ञा का अपना राजनीतिक औजार प्रवासी वकील के रूप में दक्षिण अफ्रीका में भारतीय समुदाय के लोगों के नागरिक अधिकारों के लिए संघर्ष हेतु प्रयुक्त किया। 1915 में भारत वापसी के बाद उन्होंने यहाँ में किसानों, कृषि मजदूरों और शहरी श्रमिकों को अत्यधिक भूमि कर और भेदभाव के विरुद्ध आवाज उठाने के लिए एकजुट किया। 1921 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की बागडोर सँभालने के बाद उन्होंने देशभर में गरीबी से राहत दिलाने, महिलाओं के अधिकारों का विस्तार, धार्मिक एवं जातीय एकता का निर्माण, आत्म- निर्भरता के लिए अस्पृश्यता का अन्त आदि के लिए बहुत से आन्दोलन चलाए। किन्तु इन सबसे अधिक स्वराज की प्राप्ति उनका प्रमुख लक्ष्य था। गांधी जी ने ब्रिटिश सरकार द्वारा भारतीयों पर लगाए गए नमक कर के विरोध में 1930 में दांडी मार्च और इसके बाद 1942 में, ब्रिटिश भारत छोड़ो आन्दोलन से भारतीयों का नेतृत्व कर प्रसिद्धि प्राप्त की। दक्षिण अफ्रीका और भारत में विभिन्न अवसरों पर कई वर्षों तक उन्हें जेल में रहना पड़ा।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal prakashan, raza foundation
  • Pages: 779
  • Binding: Hardback
  • ISBN: 9789389598230
  • Category: Biographies & Memoirs
  • Related Category: Biographies
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Chaturbhani by Motichandra
Sur Sansar by Sudhir Chandra
Vichar Ka Kapda by Anupam Mishra
Nirkhe Vahi Nazar by Gulam Mohammad Sheikh
Chirag-E-Dair by Mirza Ghalib
Bin Pani Sab Soon by Anupam Mishra
Books from this publisher
Related Books
Gita-Mata Mahatma Gandhi
Gita-Mata Mahatma Gandhi
Suno Vidyarthiyo Mahatma Gandhi
SATYA KE SATH MERE PRAYOG MERI ATAMKATH Mahatma Gandhi
Prarthna-Pravachan ` Khand Do Mahatma Gandhi
Prarthna-Pravachan ` Khand Ek Mahatma Gandhi
Related Books
Bookshelves
Stay Connected