logo
Home Literature Sci-fi Pramey
product-img product-img
Pramey
Enjoying reading this book?
Recommended by 1 Readers.

Pramey

by Bhagwant Anmol
4.1
4.1 out of 5

publisher
Creators
Publisher Rajpal and Sons
Synopsis उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान के ‘बालकृष्ण शर्मा नवीन पुरस्कार’ से सम्मानित भगवंत अनमोल नये विषयों पर लिखने के लिए जाने जाते हैं। 'ज़िंदगी 50-50' और 'बाली उमर' के बाद उनका यह तीसरा उपन्यास साइंस फ़िक्शन, दर्शन और वैचारिकता का एक अद्भुत मिश्रण है। यह एक ऐसे युवा की कहानी है जिसकी परवरिश धार्मिक माहौल में हुई है और वह प्रौद्योगिकी की पढ़ाई कर रहा है। जहाँ एक तरफ़ तकनीकी यह बताती है कि इस ब्रह्मांण में ईश्वर है ही नहीं तो दूसरी तरफ़ उसके परिवार ने बचपन से यह सिखाया है कि दुनिया की हर एक वस्तु सिर्फ़ ईश्वर की देन है। उसका मन इस द्वंद्व में फंसकर रह जाता है। इसी द्वंद्व से निकलने की छटपटाहट है प्रमेय। पढ़ाई के दौरान सूर्यांश का दूसरे मज़हब की लड़की से प्रेम हो जाता है। धार्मिक कट्टरता के कारण इस नवयुगल को अनेक कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। इस बीच कुछ ऐसा घटित होता है, जिससे सूर्यांश का सोचने का तरीका ही बदल जाता है। इसी कथानक के आधार पर लेखक ने विज्ञान, आध्यात्म और धर्म के तर्कों के सहारे ब्रह्मांड और ईश्वर की परिकल्पना को समझने का प्रयास किया है।

Enjoying reading this book?
Recommended by 1 Readers.
Paperback ₹235
Print Books
Digital Books
About the author भगवंत अनमोल उन चुनिंदा युवा लेखकों में हैं, जिन्हें हर वर्ग के पाठकों ने हाथोंहाथ लिया है। लेखक उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान के ‘बालकृष्ण शर्मा ‘नवीन’ पुरस्कार 2017 से सम्मानित हो चुके हैं। उनकी पुस्तक ‘ज़िन्दगी 50-50’ पर कई विद्यार्थी शोध कर रहे हैं। लेखक से संपर्क: contact@bhagwantanmol.Com bhagwantnovelwritter@gmail.Com.
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajpal and Sons
  • Pages: 144
  • Binding: Paperback
  • ISBN: 9789389373486
  • Category: Sci-fi
  • Related Category: Adventure
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Nisha Nimantran by Harivansh Rai Bachchan
Zindagi 50-50 by Bhagwant Anmol
Kavita Sadi by Suresh Salil
Raptiley Rajpath by Indira Dangi
Khamoshi by Gauhar Raza
Purush Tan Mein Phansa Mera Nari Man by Manobi Bandopadhyay
Books from this publisher
Related Books
Lokpriya Shayar Aur Unki Shayari - Nazir Akbarabadi Prakash Pandit
Lokpriya Shayar Aur Unki Shayari - Akhtar Sheerani Prakash Pandit
Lokpriya Shayar Aur Unki Shayari - Faiz Ahmad Faiz Prakash Pandit
Sargam Firaq Gorakhpuri
Dekh Kabira Roya Bhagwatisharan Mishra
Shikasht Ki Awaz Krishan Baldev Vaid
Related Books
Bookshelves
Stay Connected