logo
Home Literature Poetry Patton Par Paazeb
product-img product-img
Patton Par Paazeb
Enjoying reading this book?

Patton Par Paazeb

by Avnish Kumar
4.1
4.1 out of 5

publisher
Creators
Author Avnish Kumar
Publisher Vani Prakashan
Synopsis अवनीश कुमार के लिए कविता न तो उच्छ्वास है और न अदाकारी। इस तरह की लोकप्रिय शायरी आजकल बहुत की जा रही है। लेकिन जब उसका झाग बैठ जाता है, तो कोई ठोस चीज़ हाथ नहीं आती। अवनीश कुमार इस चलताऊ माहौल के रचनाकार नहीं हैं यद्यपि उनकी हर ग़ज़ल पहले मिसरे से ही हमें बाँध लेती है और आखिरी शे’र तक पहुँचते-पहुँचते हमारे एहसास की दुनिया एकदम बदल जाती है। अवनीश के शब्दों में, ‘रंग वही हैं जो कायनात ने दिये हैं, तमाम कोशिशों के बाद भी तस्वीर मुक़म्मल नहीं होती, फिर नयी कोशिश होती है। यह किताब भी ऐसी कोशिश है...

Enjoying reading this book?
PaperBack ₹100
HardBack ₹200
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 122
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9789352291595
  • Category: Poetry
  • Related Category: Literature
Share this book


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Sapna Abhi Bhi by Dharmveer Bharti
Sathottari Hindi Kavita Mein Janvadi Chetna by Narendra Singh
Bhartiya Bhashaon Mein Ramkatha(Bangla Bhasha) by Dr.Yogendra Pratap Singh
Pragatisheel Aandolan Ke ItihasPurush by Khagendra Thakur
Nirala Sanchayita by Ramesh Chandra Shah
Meena Bazar by Saadat hasan manto
Books from this publisher
Related Books
Ishq Musaafir Tanveer Ghazi
Azadee Ke Pahale Azadee Ke Baad Inder Bahadur Khare
Sham Hone Wali Hai Shahryar
Yah Aakanksha Samay Nahin Gagan Gill
Jalte Hue Van Ka Vasant Dushyant Kumar
Kirishnadharma Main Prabha Khetan
Related Books
Bookshelves
Stay Connected